Rajasthan Exclusive > राजस्थान > कर्ज से परेशान परिवार के 4 लोगों ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

कर्ज से परेशान परिवार के 4 लोगों ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

0
221

जिले के कानोता थाना क्षेत्र के जामडोली में दर्दनाक वाकया सामने आया है। यहां पति-पत्नी और दो बच्चों के (Breaking news in hindi rajasthan) शव एक घर में मिले हैं। फिर खुद जान दे दी। जानकारी अनुसार, आर्थिक तंगी के कारण परिवार ने ये कदम (Breaking news in hindi rajasthan) उठाया। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस के आलाधिकारियों की टीम मौके पर पहुंची। इसके साथ ही एफएसएल टीम को भी बुलाया गया। फिलहाल घटनास्थल की जांच की जा रही है। जानकारी अनुसार, जामडोली के राधिका विहार में मृतक भरत सोनी का घर है।

शनिवार को सुबह होने के बाद भी जब परिवार घर के बाहर नहीं दिखा तो आसपास रहने वाले परिजन मौके पर पहुंचे। जहां घर का दरवाजा अंदर से बंद था। परिजनों ने खिड़की से देखा तो परिवार फंदे पर लटका (Breaking news in hindi rajasthan) दिखा। जिसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस को पिता और दो बेटे एक हॉल में फंदे पर लटके मिले।

यह भी पढे: 70 ग्राम पंचायतों में चुनाव के लिए आज से नामांकन पत्र भरने शुरू

वहीं, महिला अलग एक कमरे में फंदे से (Breaking news in hindi rajasthan) लटकी मिली। जिसकी आंख पर पट्टी बंधी थी। वहीं दोनों बेटों के पैर भी बंधे मिले।आसपास के लोगों का कहना है कि रात को कुछ लोग घर पर आए थे। जिनसे लेनदेन को लेकर कुछ कहासुनी हुई थी। बता दें कि यशवंत सोनी ज्वैलरी का काम करते थे। जिनकी जयपुर और अलवर में दुकान है।

कर्जे के कारण परेशान बताया जा रहा परिवार

मौके पर पहुंचे एडिशनल एसपी मनोज चौधरी ने ईस हाद्से को लेकर बताया कि,

सूचना मिली थी कि रुचिका विहार निवासी भरत सोनी उनकी पत्नी ममता सोनी बेटे अजीत सोनी(23) और यशवंत सोनी(20) फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली है। उन्होंने बताया कि परिवार ज्वेलरी का काम करता था। उन्होंने किसी से ब्याज पर पैसे ले रहे थे।”

जिसके कारण ब्याज माफिया इन को प्रताड़ित कर रहा था। जिसके कारण परिवार ने परेशान होकर फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या (Breaking news in hindi rajasthan) कर ली। वहीं, पुलिस ने जांच के लिए कुछ लोगों को हिरासत में भी लिया है।

कोरोना मरीजों को लेकर राज्य सरकार का बडा फैसला

कल राज्य सरकार ने एक बड़ा फ़ैसला लिया है. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कोविड संक्रमित मरीजों को राहत देते हुए कोरोना से संक्रमित मरीजों के परिजनों को पीपीई किट व अन्य सुरक्षित साधनों के साथ मरीजों से मिलने व उन्हें भोजन उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं. चिकित्सा विभाग के प्रमुख शासन सचिव अखिल अरोरा ने कोरोना से संक्रमित मरीजों के एकाकीपन व उसके कारण उत्पन्न तनाव को दृष्टिगत रखते हुए यह निर्देश जारी किए हैं.

निर्देशों के अनुसार कोविड-19 से संक्रमित मरीज जो राजकीय/निजी चिकित्सालयों में उपचाररत हैं, उनसे उनके परिजनों/रिश्तेदारों को समस्त सुरक्षात्मक उपाय (यथा पीपीई किट, मास्क, दस्ताने, नियत दूरी आदि) अपनाते हुए अस्पताल द्वारा तय समय अवधि में मिल सकते हैं. साथ ही मरीज के परिजन/रिश्तेदार यदि मरीज को घर का खाना देना चाहते हैं तो निर्धारित प्रॉटोकॉल के अनुसार दे सकते हैं.

यह भी पढे: कोरोना मरीजों को लेकर राज्य सरकार का बडा फैसला

निर्देश में यह भी कहा गया है कि कोविड डेडिकेटेड अस्पतालों में बैड क्षमता को देखते हुए, उपचार हेतु आने वाले मरीजों की सुविधा व आपात स्थिति को दृष्टिगत रखते हुए पर्याप्त संख्या में व्हील चेयर/स्ट्रेचर एवं छोटे ऑक्सीजन सिलेण्डर हैल्प डेस्क पर उपलब्ध रखा जाना सुनिश्चित करें.

जिससे आपात स्थिति में आवश्यकता होने पर मरीज़ को व्हील चेयर/स्ट्रेचर पर ही लो फ्लो ऑक्सीजन, सिलेण्डर के माध्यम से उपलब्ध करावें ताकि मरीज को आपातकालीन स्थिति में तत्काल राहत देते हुए मरीज की स्थिति को स्थिर किया जा सके.