Rajasthan Exclusive > हमारी जरूरते > टिकटॉक पर प्रतिबंध के बाद सफाई, यूजर्स का डेटा हमने चीनी सरकार को नहीं दिया

टिकटॉक पर प्रतिबंध के बाद सफाई, यूजर्स का डेटा हमने चीनी सरकार को नहीं दिया

0
198

भारत-चीन सीमा पर जारी गतिरोध के बीच देश में चीनी समानों का बहिष्कार करने की मांग तेज हुई चुकी हैं. इस बीच भारत सरकार ने TikTok और UC Browser जैसे चीन से संबंधित 59 एप्लिकेशन्स को प्रतिबंधित कर दिया है. सरकार का मानना है कि यह ऐप्स सुरक्षा के लिहाज से खतरनाक हैं. टिकटॉक पर प्रतिबंध लगने के बाद टिकटॉक इंडिया ने इस मामले को लेकर सफाई पेश की है.

टिकटॉक इंडिया के हेड निखिल गांधी ने इस सिलसिले में जानकारी देते हुए कहा कि ”हमने किसी भी भारतीय टिकटॉक यूजर की कोई भी जानकारी विदेशी सरकार या फिर चीन की सरकार को नहीं दी है”.

इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि भारत में 14 भारतीय भाषा में टिकटॉक उपलब्ध है. जिसका उपयोगा लाखों-करोड़ों लोग करते हैं. करा कर इंटरनेट का लोकतांत्रिकरण किया है. इस एप का इस्तेमाल लाखों लोग करते हैं. इनमें से कुछ कलाकार, कहानीकार और शिक्षक हैं और अपनी जिंदगी के अनुसार वीडियो बनाते हैं. उन्होंने कहा कि कई यूजर्स ऐसे भी हैं जिनकी रोजी-रोटी भी टीकटॉक से जुड़ा है.

भारत सरकार ने जिन ऐप्स को ब्लॉक किया है उनमें टिकटॉक, शेयरइट, यूसी ब्राउजर, हैलो, लाइकी, क्लब फैक्ट्री, न्यूज डॉग, वीचैट, यूसी न्यूज, वीबो, जेंडर मुख्य रूप से शामिल है. चीन के 59 एप्स पर प्रतिबंध का फैसला लगाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज देश के नाम अपने संबोधन में भी इसका जिक्र कर सकते हैं.