Rajasthan Exclusive > राजस्थान > गहलोत सरकार का सराहनिय प्रयास, देश के अलग-अलग राज्यों से प्रवासी श्रमिक पहुंचे राजस्थान

गहलोत सरकार का सराहनिय प्रयास, देश के अलग-अलग राज्यों से प्रवासी श्रमिक पहुंचे राजस्थान

0
186

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश पर राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम देश के विभिन्न राज्यों से राजस्थान के प्रवासी श्रमिकों को राजस्थान लाने के लिए बसों की व्यवस्था कर रहा है. निगम की बसों से छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और गुजरात से राजस्थान के प्रवासी श्रमिकों को राजस्थान लाने के लिए बसें विभिन्न राज्यों के लिए रवाना की गईं हैं. ये बसें राज्य के प्रवासी श्रमिकों को लेकर राजस्थान पहुंच रही हैं. राजस्थान सरकार की इस अभिनव पहल के कारण राजस्थान के प्रवासी श्रमिकों के चेहरों पर मुस्कान है और वे कह रहे हैं शुक्रिया राजस्थान.

छत्तीसगढ़ से आएंगे श्रमिक

उदयपुर से एक बस झालावाड़ के लिए 20 मई को रात 10 बजे रवाना की गई। झालावाड़ में बस को बदलकर वहां से झालावाड़ आगार की बस छत्तीसगढ़ के रायपुर भेजी गई. रायपुर में यह बस 23 मई को सुबह 3 बजे पहुंची. श्रमिकों को उतारने के बाद 23 मई को रात्रि 10 बजे रायपुर से भिलाई तथा दुर्ग से श्रमिकों को लेकर यह बस रात्रि 12 बजे छत्तीसगढ़ से रवाना होगी, जो 25 मई को सुबह पहुंचेगी.

महाराष्ट्र से आएंगे श्रमिक

गडचिरोली तथा गोंदिया (महाराष्ट्र) में फंसे हुए राजस्थान के श्रमिकों को लाया जाना है. यह प्रयास किया गया है कि जाते समय बसें खाली नहीं जाएं। उदयपुर से 74 यात्रियों को राजनंदगांव छत्तीसगढ़ जाने के लिए बसों की आवश्यकता थी. दो बसें उदयपुर आगार से इन श्रमिकों को लेकर 23 मई को देर रात रवाना होंगी जो 24 मई को देर रात छत्तीसगढ़ पहुंचेगी. वापसी में आते समय ये बस महाराष्ट्र में गडचिरोली/गोंदिया जिलों से लगभग 80 राजस्थान के श्रमिकों को वापस लेकर 25 मई को देर रात पहुंचेगी.

गुजरात से आएंगे प्रवासी श्रमिक

भरतपुर से सुरेन्द्रनगर गुजरात के लिए 22 मई को रात्रि 11 बजे 11 प्रवासी श्रमिकों को लेकर बस को रवाना किया गया जो 23 मई को लगभग रात 9 बजे सुरेन्द्रनगर पहुंचेगी और वापसी में ये बस राजस्थान के प्रवासी श्रमिकों को लेकर भरतपुर के लिए रवाना होगी.

यवतमाल से राजस्थान पहुंचे प्रवासी श्रमिक

यवतमाल, महाराष्ट्र से 80 श्रमिकों को लेकर 22 मई को दोपहर 3 बजे प्रतापगढ़ पहुंचे. प्रतापगढ़ आगार पर रोडवेज के मुख्य प्रबन्धक तथा स्टाफ द्वारा प्रवासी मजदूरों को खाने-पीने की सुविधा उपलब्ध कराई गई तथा उन्हें तीन बसों के द्वारा आगे के जिलों यथा जोधपुर, जोधपुर, पाली, अजमेर, सीकर, बीकानेर, चित्तौड़गढ़, भरतपुर के लिए रवाना किया गया.