Rajasthan Exclusive > राजस्थान > पौने तीन महीने बाद भी कांग्रेस की नई कार्यकारिणी का पता नहीं

पौने तीन महीने बाद भी कांग्रेस की नई कार्यकारिणी का पता नहीं

0
54

पिछले 84 दिनो से प्रदेश कांग्रेस बिना कार्यकारिणी के चल रही है। संगठन में केवल एकमात्र नियुक्ति पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा की हुई है। उधर पंचायत समितियों और निकाय चुनावों को लेकर प्रमुख विपक्षी दल भाजपा ने तैयारियां शुरू कर दी हैं, लेकिन सत्तारूढ़ कांग्रेस में इसे लेकर कोई हलचल नहीं है। चुनावी तैयारियां तो दूर की बात, कांग्रेस ने तो अभी तक संगठन का ढांचा ही खड़ा नहीं किया। ऐसे कांग्रेस गलियारों में ही इसे लेकर चर्चाओं का तेज है, चर्चा इस बात की है कि बिना सेना के कैसे रण जीतेंगे?

हालांकि अभी निकाय चुनाव टालने का मामला सुप्रीम कोर्ट में है और अगर वहां से कोई राहत नहीं मिली और निकाय और पंचायत समितियों के चुनाव घोषित हो गए तो फिर बिना संगठन खड़ा किए चुनाव में कैसे जाया जाएगा? कार्यकारिणी कब घोषित होगी इसे लेकर पार्टी के शीर्ष नेता कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।

यह भी पढे: भाजपा सरकार के खिलाफ प्रदर्शन में उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

सूत्रों की मानें तो आगामी पंचायत और निकाय चुनाव को देखते हुए पुरानी कार्यकारिणी को ही फिर से बहाल करने की मांग प्रदेश प्रभारी अजय माकन के समक्ष उठ चुकी है। प्रदेश कांग्रेस के कई नेता भी चाहते हैं कि जब तक नई कार्यकारिणी घोषित नहीं हो जाती तब तक पुरानी कार्यकारिणी को बहाल कर उससे काम लिया जाए। हालांकि पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा इस तरह की मांगों को खारिज कर चुके हैं।

दरअसल तत्कालीन डिप्टी सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट के पार्टी से बगावत के बाद पार्टी आलाकमान ने पायलट को दोनों पदों से बर्खास्त कर 14 जुलाई को शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को नया पीसीसी चीफ बनाया था, साथ ही संपूर्ण प्रदेश कार्यकारिणी, जिलाध्यक्षों और ब्लॉक अध्यक्षों को भंग करते हुए कार्यकारिणी को भंग कर दिया था। लेकिन अब लगभग पौने तीन माह का समय बीत जाने के बाद भी प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा नहीं हो पाई है।