Rajasthan Exclusive > राजस्थान > कोरोना स्प्रेड को रोकने के लिए गहलोत सरकार का बड़ा कदम

कोरोना स्प्रेड को रोकने के लिए गहलोत सरकार का बड़ा कदम

0
395
  • लोगों को रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर पर मिलेगी कोरोना की रिपोर्ट

  • 50 हजार से अधिक लोगों के रोजाना कोरोना टेस्ट हो रहे है

  • सात सितम्बर से यह ऑनलाइन रिपोर्ट की व्यवस्था सभी लैब में लागू

प्रदेश में कोरोना के बढ़ते स्प्रेड की रोकथाम के लिए गहलोत सरकार ने बड़ा कदम उठाया है.

चिकित्सा विभाग ने कोरोना जांच की रिपोर्ट लोगों को उनके रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर पर तत्काल उपलब्ध कराने की व्यवस्था शुरू की है.

प्रमुख चिकित्सा सचिव अखिल अरोड़ा ने प्रदेशभर की लैब और आईटी विंग के लिए इस बारे में विस्तृत आदेश जारी किए है.

विभाग की ओर से जारी आदेश के तहत लैब से आईसीएमआर पोर्टल के साथ ही राजस्थान हेल्थ पोर्टल पर भी मरीज की कोरोना रिपोर्ट को अपलोड किया जाएगा.

सात सितंबर से यह व्यवस्था लागू हो जाएगी

इस पोर्टल पर जैसे ही रिपोर्ट अपलोड होगी.

सम्बन्धित व्यक्ति के रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर पर उस रिपोर्ट का मैसेज जाएगा.

इसके साथ ही राज कोविड इंफो मोबाइल एप के जरिए भी कोरोना की जांच रिपोर्ट कोई भी व्यक्ति ले सकता है.

चिकित्सा विभाग की तरफ से सात सितम्बर से यह ऑनलाइन रिपोर्ट की व्यवस्था सभी लैब में लागू होगी.

इसके लिए बकायदा चिकित्सा कार्मिकों को ट्रेनिंग दी जाएगी.

साथ ही स्टेट लेवल पर कोर्डिनेशन के लिए दो अधिकारियों को बतौर नोडल अधिकारी नियुक्ति किया गया है

अभी तक सिर्फ एसएसएस में सैम्पल देने पर ही ऑनलाइन रिपोर्ट मिलती है.

यह भी पढे: कोरोना जांच की रिपोर्ट अब रजिस्टर्ड मोबाइल पर मिल सकेगी

CMHO दफ्तर या सीएचसी पर सैम्पल देने वाले लोगों को को रिपोर्ट लेने के लिए चक्कर लगाने पड़ते हैं.

क्योंकि इन जगहों पर सैम्पल देने पर लोगों को मोबाइल पर एक आईडी मिलता है.

लेकिन ऑनलाइन रिपोर्टिंग की व्यवस्था नहीं होने से इस आईडी लिंक का कोई फायदा नहीं होता.

मजबूरी में लोग अपनी रिपोर्ट के लिए अलग-अलग जगहों पर चक्कर काटते है.

इस बीच कई केस ऐसे भी सामने आए हैं.

जो पॉजिटिव होने के बावजूद रिपोर्ट के लिए चक्कर लगा रहे थे.

कई लोगों को तो दो से तीन दिन तक रिपोर्ट उपलब्ध नहीं हो रही थी.

नई व्यवस्था से लोगों को कुछ राहत मिलेगी.

राजस्थान में फिलहाल 50 हजार से अधिक लोगों के रोजाना कोरोना टेस्ट हो रहे है.

यह भी पढे: बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया को भी हुआ कोरोना

इसमें से अधिकांश लोग ऐसे है, जिन्हें रिपोर्ट के लिए चक्कर लगाना पड़ता है लेकिन चिकित्सा विभाग ने सात सितम्बर से लागू नई व्यवस्था से ये दिक्कतें खत्म होगी.

चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने पहले ही मरीजों को उनके मोबाइल नम्बर पर कोरोना रिपोर्ट उपलब्ध कराने के लिए मैकेनिजम डवलप करने के संकेत दे दिए थे.

अब विभाग के ऑनलाइन रिपोटिंग की व्यवस्था शुरू करने से मरीजों को तो राहत मिलेगी ही साथ ही पॉज़िटिव मरीजों का मूमेंट कम होने से स्प्रेड का खतरा भी कम होगा.