Rajasthan Exclusive > राजनीती > गहलोत सरकार ने पेश किया विश्वास मत प्रस्ताव, प्रस्ताव पर पक्ष विपक्ष की बहस जारी

गहलोत सरकार ने पेश किया विश्वास मत प्रस्ताव, प्रस्ताव पर पक्ष विपक्ष की बहस जारी

0
163

जयपुर: राज्य विधान सभा का विशेष सत्र शुक्रवार से शुरू हुआ। सत्र में गहलोत सरकार की ओर से विश्वास मत प्रस्ताव पेश किया गया है। इस प्रस्ताव पर अब पक्ष विपक्ष के सदस्यों की ओर से बहस की जा रही है। इस दौरान आपसी टीका टिप्पणी को लेकर बीच-बीच में हंगामा भी होता रहा।

विधानसभा अध्यक्ष डॉक्टर सीपी जोशी की व्यवस्था के बाद संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने विश्वास प्रस्ताव पेश किया। प्रस्ताव पेश करते हुए धारीवाल ने कहा किजयपुर : शांति धारीवाल ने कहा कि केंद्र की सरकार गिराने की कोशिशें राजस्थान में कामयाब नहीं हुई, राजस्थान में बीजेपी और केंद्र को छठी का दूध याद दिला दिया, बीजेपी की तिगड़ी मुख्यमंत्री बनने का सपना देख रही है, संजीवनी बूटी खाकर इथोपिया में हजारों एकड़ जमीन के मालिक मुख्यमंत्री बनने का ख्वाब देख रहे हैं, छोटा भाई और मोटा भाई ने विधायकों की मिनिमम स्पोर्ट प्राइस बढ़ा दी, खरीद फरोख्त से सरकार गिराने की कोशिश हुई.

“मोड्स ऑपरेंडी की जगह अब मोदीस ऑपरेंडी ” चल पड़ा है। धारीवाल ने सदन में सुनाया गूंगे महल का किस्सा, जिस व्यक्ति की जैसी संगत है उसकी वैसी रंगत होगी, भ्रष्टों के साथ रहकर भ्रष्ट हो जाएंगे, बीजेपी ने गुजरात में क्या विधायक रासलीला के लिए भेजे थे, हमारी एकजुटता इन्हें बाड़ेबंदी लगती है.

यह भी पढे: राजस्थान : मुख्यमंत्री आवास पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक, गहलोत से मिले पायलट

राठौड़ साहब कह रहे थे कि बाड़ा खोल दीजिए, ऑपरेशन लोटस नाकामयाब हो गया। केंद्र सरकार सरकारों को अस्थिर कर रही है, बीजेपी का गोरखधन्धा विधायकों की खरीद फरोख्त करने का। धारीवाल ने कहा, आपसे हिसाब मांगा जाएगा, धारीवाल ने विधायक खरीद फरोख्त पर इशारा करते हुए कहा, पूनिया साहब, राठौड़ साहब आपसमें झगड़ा मत करना, वरना सारा भांडा फूट जाएगा, हिसाब तो मांगा ही जाएगा, धारीवाल ने इस प्रकरण में अमित शाह का नाम लिया, गुलाबचंद कटारिया और राजेंद्र राठौड़ ने आपत्ति की।

गलत तरीके से टेलीफोन टेप किए गए, डीजीपी की भूमिका भी सही नहीं रही: राठौड़

विश्वास मत पर बहस, उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि आईपीएस अफसर विधायकों के मन की टोह लेते दिखे, एसओजी, एटीएस, एसीबी जैसी एजेंसियों का भारी दुरूपयोग किया गया, गलत तरीके से टेलीफोन टेप किए गए, डीजीपी की भूमिका भी सही नहीं रही, जिनके हस्ताक्षरों से टिकट लेकर कांग्रेस विधायक बने, वे आज क्या महसूस कर रहे हैं। साढ़े छह साल तक नकारा निकम्मा शब्द छिपा रहा , एलिफेंट ट्रेडिंग करने वाली सरकार हॉर्स ट्रेडिंग की बात कर रही है।

जिस डॉक्टर को नब्ज दिखानी थी, वहां दिखा दिया। अब सरहद पर तैनात: पायलट

अविश्वास प्रस्ताव पर जब उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौर बोल रहे थे उसी दौरान बीच में खड़े होकर सचिन पायलट ने कहा कि सदन में मेरी सीट बदल दी गई, सदन में जहां मेरी सीट है वह सरहद है, उसके बाद विपक्ष की सीटें शुरू होती हैं, सरहद पर उसे भेजा जाता है जो मजबूत हो,हमें जिस डॉक्टर को नब्ज दिखाना था, वहां दिखा दिया, अब गदा और कवच लेकर सरकार को सुरक्षित रखेंगे।