Rajasthan Exclusive > राजस्थान > राजस्थान में प्रवासी मजदूरों को मनरेगा के तहत रोजगार देगी गहलोत सरकार

राजस्थान में प्रवासी मजदूरों को मनरेगा के तहत रोजगार देगी गहलोत सरकार

0
246

भारत में कोरोना संकट के कारण लागू देशव्यापी लॉकडाउन के कारण देश भर से प्रवासी मजदूर अपने-अपने घरों को लौट रहे हैं. प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचने में कई दिक्कतों का सामना भी करना पड़ रहा है. ऐसे में राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार प्रवासियों को बड़ा तोहफा देने जा रही है. राज्य सरकार प्रवासी मजदूरों को रोजगार मुहैया कराएगा. हालांकि इसके लिए कुछ शर्ते होंगी.

राज्य में रह रहे प्रवासी मजदूरों की पहले कोरोना की जांच होगा. इसके बाद जॉब कार्ड बनाकर सरकार उनको मनरेगा के तहत रोजगार देगी. इसके लिए कोरोना टेस्ट और जॉब कार्ड अभियान चलाया जाएगा. जोधपुर जिला प्रभारी नवीन महाजन ने कहा कि जोधपुर संभाग में आने वाले सात हजार से ज्यादा प्रवासियों की सात दिनों में कोरोना जांच करने का लक्ष्य रखा गया है. साथ ही 7,000 प्रवासी श्रमिकों के जॉब कार्ड बनवाने का काम भी शुरू कर रहे हैं. जॉब कार्ड बनाकर इन प्रवासी श्रमिकों को मनरेगा में रोजगार दिया जाएगा.

महाजन ने गुरुवार को शहर में कोरोना के बड़े हॉटस्पॉट इलाकों में की गई व्यवस्थाओं का जायजा लिया. जोधपुर के नागौरी गेट से लेकर पांच थाना इलाकों का दौरा कर प्रभारी सचिव ने आम लोगों से मुलाकात की. प्रभारी सचिव ने इस दौरान कर्फ्यूग्रस्त इलाकों में रहने वाले लोगो सें मुलाकात कर उनकी परेशानी के बारे में जाना. इसके बाद प्रभारी नवीन महाजन ने जोधपुर की व्यवस्थाओं पर संतोष जाहिर किया.

नवीन महाजन ने कहा कि, जोधपुर शहर में सबसे ज्यादा कोरोना टेस्ट किए गए हैं. जिले ने अब तक टेस्ट करने के मामले में राज्य के अन्य सभी जिलों को पीछे छोड़ दिया है. उन्होंने कहा कि, ज्यादा टेस्ट करने से ही इतने पॉजिटिव केस सामने आए हैं और अब एक्टिव केस भी यहां केवल 215 के आस-पास रह गए हैं.

जिला प्रभारी नियुक्त किए जाने के बाद नवीन महाजन ने गुरुवार को जोधपुर के पुराने शहर का दौरा कर व्यवस्थाएं देखीं. महाजन नागोरी गेट से परकोटे के भीतर के शहर में प्रवेश कर घंटाघर होते हुए उदय मंदिर इलाके में पहुंचे. यहां उन्होंने आम नागरिकों और पुलिस मित्रों से भी बात की. उनके साथ जिला कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित, पुलिस कमिश्नर प्रफुल्ल कुमार, डीसीपी ईस्ट धर्मेंद्र सिंह यादव समेत अन्य अधिकारी भी थे.