Rajasthan Exclusive > राजस्थान > राजस्थान में मास्क बनाने से जल रहा हिंदू शरणार्थियों का चूल्हा

राजस्थान में मास्क बनाने से जल रहा हिंदू शरणार्थियों का चूल्हा

0
233

कोरोना कोहराम के बीच मास्क पहनना अब हर किसी की अहम जरूरतों में से एक है. राज्य सरकार अपने-अपने स्तर पर लोगों को मास्क पहनकर घर से निकलने की अपील कर रही है. इतना ही नहीं कुछ जगहों पर तो उसको लेकर बाकायदा कानून भी बनाया गया है. लेकिन इन सभी के बीच मास्क बनाने वाले लोगों को रोजी रोटी मिल गई है.

ऐसा ही एक मामला राजस्थान के जोधपुर में दिखा जहां पाकिस्तान से भारत आए करीब 70 हिंदू शरणार्थियों की महिलाएं इस काम से जुड़कर अपने परिवार के लिए रोजी रोटी का इंतजाम कर रही है. इस मामले को लेकर यूनिवर्सल जस्ट एक्शन सोसाइटी सचिव हिंदू सिंह सोढा ने कहा, हमें इस बात का पता ही नहीं था कि पाकिस्तान से आए हिंदू शरणार्थियों को मास्क प्रदान करने की मुहिम ही उन लोगों के लिए रोजी-रोटी सहारा बन जाएगी.

 

उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि शुरू में शरणार्थियों को देने के लिए 12 हजार मास्क सिलवाने शुरू किए थे, लेकिन कोरोना के बढ़ते कहर के बाद मास्क की मांग तेज हो गई. इस दौरान मास्क की सिलाई के लिए हिंदू शरणार्थियों की महिलाएं आगे आईं. तालाबंदी के बीच जहां इन शरणार्थियों के पुरुषों को काम नहीं मिल रहा वहीं दूसरी तरफ उनकी महिलाएं काम कर घर की जिम्मेदारी अपने कंधे पर उठा रही हैं.