Rajasthan Exclusive > देश - विदेश > भारत में बन गई कोरोना की दवा? बंदरों पर सफल परीक्षण का दावा

भारत में बन गई कोरोना की दवा? बंदरों पर सफल परीक्षण का दावा

0
149

वैक्सीन बनाने वाली देसी कंपनी भारत बायोटेक की कोरोना वायरस वैक्‍सीन ‘कोवैक्सिन’(India Make Corona Vaccine) का जानवरों पर परीक्षण सफल रहा है.  कंपनी ने शुक्रवार को Covaxin द्वारा बंदरों में वायरस के प्रति ऐंटीबॉडीज विकसित करने का दावा किया. यानी यह साबित हो गया है कि लैब के अलावा जीवित शरीर में भी यह वैक्‍सीन कारगर है.

कंपनी ने कहा कि बंदरों पर स्‍टडी के नतीजों से वैक्‍सीन (India Make Corona Vaccine) की इम्‍युनोजीनिसिटी (प्रतिरक्षाजनकता) का पता चलता है. भारत बायोटेक ने खास तरह के बंदरों को वैक्सीन (India Make Corona Vaccine) की डोज दी थी. फिलहाल इस वैक्‍सीन (India Make Corona Vaccine) का भारत में अलग-अलग जगहों पर फेज 1 क्लिनिकल ट्रायल चल रहा है. सेंट्रल ड्रग्‍स स्‍टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (CDSCO) ने इसी महीने भारत बायोटेक को फेज 2 ट्रायल की अनुमति दी है.

भारत बायोटेक ने 20 बंदरों को चार समूहों पर बांटकर एक ग्रुप को प्‍लेसीबो दिया गया जबकि बाकी तीन ग्रुप्‍स को तीन अलग-अगल तरह की वैक्‍सीन पहले और 14 दिन के बाद दी गई. दूसरी डोज देने के बाद, सभी बंदरों को SARS-CoV-2 से एक्‍सपोज कराया गया. वैक्‍सीन (India Make Corona Vaccine) की पहली डोज दिए जाने के तीसरे हफ्ते से बंदरों में कोविड के प्रति रेस्‍पांस डेवलप होना शुरू हो गया था.

यह भी पढे: 26 जिलों में कोरोना विस्फोट, 739 नए केस आए, सात की मौत

जानकारी के लिए बता दें कि इस वैक्‍सीन का भारत में अलग-अलग जगहों पर फेज 1 क्लिनिकल ट्रायल पूरा हो चुका है। सेंट्रल ड्रग्‍स स्‍टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (CDSCO) ने इसी महीने भारत बायोटेक को फेज 2 ट्रायल की अनुमति दी है।

मालूम हो कि कोवैक्सिन को इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ वायरलॉजी और भारत बायोटेक ने मिलकर बनाया है। भारत बायोटेक ने 29 जून को ऐलान किया था कि उसने वैक्‍सीन (India Make Corona Vaccine) तैयार कर ली है जिसके बाद से कंपनी लगातार इसका परीक्षण कर रही है।

26 जिलों में कोरोना विस्फोट, 739 नए केस आए, सात की मौत

प्रदेश में संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 99775 हो गया है, जबकि अब तक 1214 की मौत हो चुकी है। प्रदेश में कोरोना का कहर जारी है। शनिवार को 26 जिलों में  739  नए संक्रमित आने के साथ ही 7 की मौत हो गई। प्रदेश में संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 99775 हो गया है, जबकि अब तक 1214 की मौत हो चुकी है।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की शनिवार की रिपोर्ट के अनुसार नए मरीजों में सबसे ज्यादा जोधपुर से 105 और जयपुर से 103 कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। अन्य जिलों कोटा से 84, अलवर से 59, अजमेर से 46, बीकानेर से 33, नागौर से 27, प्रतापगढ़ से 26, पाली से 23, बाड़मेर से 22, झालावाड़ से 20, श्रीगंगानगर से 19, भरतपुर से 18, बारां से 16, हनुमानगढ़ से 16, सिरोही से 15, उदयपुर से 13, चित्तोड़गढ़ से 13, उदयपुर से 13, झुंझुनूं से 12, भीलवाड़ा से 11, बूंदी से 11, डूंगरपुर से 11, राजसमंद से 11, चूरू से 9, धौलपुर से 9 और जालौर से 7 नए केस सामने आए है।

यह भी पढे: गहलोत का कोरोना प्रबंधन देश में सर्वश्रेष्ठ, अजय माकन का आकलन

साथ ही जयपुर से 2, उदयपुर, प्रतापगढ़, चूरू, बीकानेर और अजमेर से एक—एक मरीज की मौत हो गई। अब तक 81978 लोग कोरोना  संक्रमण से रिकवर हो चुके हैं। वहीं 80611 को अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है। प्रवासी संक्रमित मरीजों की संख्या अब 9 हजार 593 हो चुकी है। प्रदेश में जांच के लिए अब-तक 25 लाख 99 हजार 477 लोगों के सैंपल लिए जा चुके है। जिनमें से 24 लाख 98 हजार 205 की रिपोर्ट नेगेटिव आई है, जबकि 1497 की रिपोर्ट अभी आना बाकी है।

सीकर में 3284 कोरोना मरीजों में से 88 फीसदी हुए स्वस्थ

राजस्थान के सीकर जिले में बुधवार को स्वास्थ्य भवन के एक कर्मचारी सहित फिर 16 नए कोरोना पॉजिटिव केस मिले। वहीं, 54 मरीज कोविड केन्द्रों से स्वस्थ होकर घर पहुंचे। मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अजय चौधरी ने बताया कि बुधवार को सीकर शहर में चार, नीमकाथाना व फतेहपुर ब्लॉक में तीन-तीन, लक्ष्मणगढ में दो, कूदन, पिपराली, श्रीमाधोपुर और दांता ब्लॉक में एक-एक नए कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए।

व केसों की संख्या हुई 16 हजार 583

प्रदेशभर में संक्रमित मरीजों के साथ एक्टिव केसों की संख्या लगातार बढ़ रही है। शनिवार सुबह तक राज्य में 16583 एक्टिव केस हो गए है। कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या भी 81 हजार 978 हो चुकी है, जिनमें से 80611 लोगों को अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है।