Rajasthan Exclusive > राजस्थान > गहलोत ने जयपुर में मेट्रो के फेज वन बी की दी सौगात

गहलोत ने जयपुर में मेट्रो के फेज वन बी की दी सौगात

0
102

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को मुख्यमंत्री निवास से वर्चुअल उदघाटन करते हुए भूमिगत मेट्रो की जनता को सौगात दी। राजस्थान की प्रथम भूमिगत मेट्रो (Jaipur metro Train Opening) का मुख्यमंत्री गहलोत ने घर से बटन दबाकर लोकार्पण किया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि आज का दिन जयपुर के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा। एक न्यूज पढ़ने के बाद हमने बहुत पहले मेट्रो (Jaipur metro Train Opening) का सपना देखा था। किसी को यकीन नही था कि जयपुर में मेट्रो आ जाएगी। दिल्ली मेट्रो के सहयोग से हमने यह कर दिखाया।

यह भी पढे: धौलपुर में नाबालिग से गैंगरेप की घटना राजस्थान को शर्मसार करने वाली: रामलाल शर्मा

चांदपोल से बड़ी चौपड़ मेट्रो (Jaipur metro Train Opening) चलाना चुनौतीपूर्ण काम था। हमें उम्मीद की थी ढाई साल में काम पूरा कर लेंगे, लेकिन सरकार बदलने के बाद कई बार सोच बदल जाती है। पिछली सरकार की प्राथमिकताए दूसरी हो गई थी,इसलिए देरी हो गयी। मेट्रो निर्माण के दौरान कई जगह मंदिर आए तो 200 से अधिक पेड़ बीच मे आ रहे थे,लेकिन लोगों और व्यापारियों ने काफी साथ दिया। सिर्फ 9 पेड़ काटे गए,बाकी दूसरी जगह शिफ्ट कर दिए। आधुनिक तकनीक का उपयोग कर सावधानी बरती गई,इसलिए बिना दुर्घटना के यह काम पूरा हो गया।

गहलोत ने कहा कि मेट्रो (Jaipur metro Train Opening) चलाने में घाटे मुनाफे नही देखे जाते। यह सरकार की सामाजिक जिम्मेदारी होती है। मेट्रो को लेकर मेरी काफी आलोचना हुई थी। मैने तब भी कहा था कि आलोचक अपनी सोच बदलें। जनता से जुड़े काम मे नफा नुकसान नही देखा जाता। सीतापुरा से अम्बाबाड़ी के दूसरे फेज पर भी हमारा ध्यान है।

यह भी पढे: प्रदेश में कोरोना के मरीजों के इलाज में कोई कमी नहीं छोड़ी जाएगी: गहलोत

जयपुर और जोधपुर में मेट्रो (Jaipur metro Train Opening) लाइट प्रोजेक्ट को भी आजमाया जा सकता है। कोरोना के कारण मेट्रो प्रोजेक्ट में देरी हो गयी। जयपुर मेट्रो केवल जयपुर के ही काम नही आएगी। यह पूरे प्रदेश की जनता के काम आएगी। हम जल्दी ही अन्य शहरों में भी इसकी सम्भावनायें तलाशेंगे। इसके लिए केन्द्र सरकार को भी हमारी आर्थिक मदद करनी होगी।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को चांदपोल से बड़ी चौपड़ तक बनाई गई भूमिगत मेट्रो को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। इस दौरान यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल, मुख्य सचेतक महेश जोशी, परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, विधायक अमीन कागजी, मेट्रो (Jaipur metro Train Opening) सीएमडी भास्कर ए सावंत मौजूद रहे।

जानकारी के अनुसार चांदपोल से बड़ी चौपड़ तक बनाई गई करीब दो किलोमीटर लंबी भूमिगत मेट्रो (Jaipur metro Train Opening) लाइन में करीब को 1126 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। मेट्रो प्रशासन की ओर से चांदपोल, छोटी चौपड़ और बड़ी चौपड़ पर मेट्रो स्टेशन बनाए गए हैं। मेट्रो ट्रेन में बैठने वाले यात्रियों को फेस मास्क लगाना अनिवार्य होगा।

यह भी पढे: जनता के जीवन को संकट में डाल रही है राजस्थान सरकार: शर्मा

अंडर ग्राउंड चलने वाली पहली ट्रेन जयपुर में

जानकारी के अनुसार भूमिगत चलने वाली पहली मेट्रो ट्रेन (Jaipur metro Train Opening) जयपुर में संचालित हुई। इससे पहले मानसरोवर से चांदपोल तक भी डबल डेकर रूट बनाया गया था। यह भी प्रदेश में पहला ही डबल डेकर रूट है।

बड़ी चौपड़ से मानसरोवर तक दौड़ पड़ी मेट्रो

जयपुरवासियों के लिए परकोटे में मेट्रो ट्रेन दौडऩे का सपना साकार हो गया है। बुधवार को बड़ी चौपड़ से मानसरोवर तक जयपुर मेट्रो दौड़ पड़ी।

हो गए 11 स्टेशन

जयपुर मेट्रो के 11 स्टेशन हो गए हैं। पहले मानसरोवर से चांदपोल तक 9 स्टेशन थे उसके बाद चांदपोल से बड़ी चौपड़ तक दो नए स्टेशन बनाए गए हैं।

4 दरवाजे

बड़ी चौपड़ पर बनाए गए मेट्रो स्टेशन में यूं तो प्रवेश के लिए चार द्वार बनाए गए हैं, लेकिन कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए फिलहाल दो ही द्वार से प्रवेश दिया जाएगा। प्रवेश के बाद कोरोना संक्रमण से बचाव के एहतियाती उपाय किए जाएंगे।

किराया 26 रुपए

मेट्रो में सफर करने वाले को टिकट या कॉइन नहीं दिया जाएगा बल्कि स्मार्ट कार्ड दिया जाएगा। यात्री मोबाइल की तरह स्मार्ट कार्ड को रिचार्ज करवा सकेंगे। पहली बार यात्रा करने वाले मेट्रो स्टेशन से ही स्मार्ट कार्ड खरीद सकेंगे। जयपुर मेट्रो की साइट पर जाकर ऑनलाइन भी स्मार्ट कार्ड को रिचार्ज कर सकेंगे। बड़ी चौपड़ से मानसरोवर तक सफर के लिए यात्रियों को किराए के लिए 26 रुपए का भुगतान करना होगा।