Rajasthan Exclusive > राजस्थान > मलेरिया व मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए सतर्कता बरते: डॉ रघु

मलेरिया व मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए सतर्कता बरते: डॉ रघु

0
153

चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा़ ने कोरोना के साथ ही प्रदेश में वर्षा से प्रभावित स्थानों पर जलजनित एवं मच्छरजनित बीमारियों (Malaria and diseases) (डेंगू, मलेरिया व चिकनगुनिया) की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए स्वाथ्य विभाग के अधिकारियों को विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिये हैं।

शर्मा ने मच्छरों की रोकथाम के लिए एन्टीलार्वल गतिविधिपयों पर अधिक ध्यान देने एवं मच्छरों (Malaria and diseases) के प्रजनन को रोकने के लिए पानी के ठहराव वाले स्थानों पर एम.एल.ओ. डलवाने के निर्देश दिये। उन्होंने पीने के पानी के टांकों में टेमीफोस डलवाने की व्यवस्था करने के भी निर्देश दिये हैं। उन्होंने सभी जिलों में हैचरीज का समुचित रख-रखाव सुनिश्चित करने एवं हैचरीज से गम्बूशिया मछलियां तालाब एवं टांको में डलवाने के लिए भी कहा है।

चिकित्सा मंत्री ने चिकित्सा अधिकारियों को स्प्रे का सुपरविजन सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने बताया कि मलेरिया (Malaria and diseases) पी.एफ. रोगी एवं डेंगू रोगी पाये जाने पर पायरेथ्रम का फोकल स्प्रे रोगी एवं आसपास के 50 घरों में किया जायेगा। सभी प्रभावित गांवों में शत-प्रतिशत सर्वेलेंस कर नियमित मॉनीटरिंग की जायेगी।

यह भी पढे: राजस्थान: अब रविवार को भी बाजार खोलेने की अनुमति

शर्मा ने बुखार पीड़ित रोगियों की त्वरित जांच एवं उपचार करने के साथ ही आउटब्रेक की स्थिति में आवश्यक दवाईयां एवं चिकित्सकीय दल (रैपिड रेस्पोंस टीम) आदि की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए कहा है। उन्होंने चिकित्सा संस्थानों पर चिकित्सकों व पैरामेडिकल नर्सिंग स्टॉफ का मुख्यालय पर ठहराव सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने सभी पेयजल स्रोतों की क्लोरोस्कोप से नियमित जांच करने एवं जलदाय विभाग तथा स्थानीय निकायों के समन्वय से एवं संयुक्त टीम का गठन कर पानी के नमूनीकरण का कार्य अधिक से अधिक कर शुद्ध पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं।

जिलों में मौसमी बीमारियों (Malaria and diseases) की रोकथाम के लिए क्लोरीन, ब्लीचिंग पाउडर, ओ.आर.एस. इत्यादि की स्वास्थ्य उपकेन्द्रों तक उपलब्धता, पेयजल स्रोतों के क्लोरीनेशन, पेयजल के नमूनों की जांच, रेपिड रेस्पोन्स टीम के गठन एवं रक्त व अन्य नमूनों की जांच के लिए प्रयोगशालाओं की व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे। मलेरिया, डेंगू इत्यादि मौसमी बीमारियों (Malaria and diseases) की रोकथाम के लिए पर्याप्त मात्रा मेें दवाईयां, जांच व अन्य साधनों की व्यवस्था देखने के साथ ही पॉजिटिव प्रकरणों के संबंध में निर्धारित मापदण्डों के अनुसार कार्यवाही पर सतर्कता से नजर रखने के भी निर्देश दिये गये हैं।

यह भी पढे: राजस्थान में कोरोना विस्फोट: 24 घंटे में रिकॉर्ड 1640 नए केस

राजस्थान में कोरोना विस्फोट: 24 घंटे में रिकॉर्ड 1640 नए केस

राजस्थान में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. गुरुवार को प्रदेश में 1640 नए पॉज़िटिव केस सामने आए हैं, जबकि 14 मरीजों की मौत हो गई. वहीं कोरोना के इलाज के बाद 1032 मरीज ठीक भी हुए है.

राजधानी जयपुर में सबसे अधिक 329 नए केस सामने आये है. जोधपुर से 320 नए केस, अजमेर 50,अलवर 56,बांसवाड़ा 28, बारां 23, बाड़मेर 24, भरतपुर 26 पॉजिटिव, भीलवाड़ा 28, बीकानेर 40, बूंदी 31,चित्तौड़गढ़ 25, चूरू 29, दौसा 5 पॉजिटिव, धौलपुर 32, डूंगरपुर 19, गंगानगर 26, हनुमानगढ़ 24, जयपुर 329 पॉजिटिव, जैसलमेर 14,जालोर 20, झालावाड़ 39, झुंझुनूं 25, जोधपुर 320, करौली 3 पॉजिटिव, कोटा 177, नागौर 43, पाली 37, प्रतापगढ़ 10, राजसमंद 9,सवाईमाधोपुर 20 पॉजिटिव, सीकर 55,सिरोही 32, टोंक 20, उदयपुर में 19 पॉजिटिव केस मिले है.

राजस्थान में एक्टिव मरीजों की संख्या 15 हजार 702 है, जिनका इलाज जारी है. प्रदेश में कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 97 हजार 376 है. वहीं कुल पॉजिटिव में से 80 हजार 482 लोग इलाज के बाद रिकवर्ड हुए है. अब तक कोरोना की वजह से राजस्थान में 1192 मरीजों की मौत हो चुकी है.

यह भी पढे: सीकर में 3284 कोरोना मरीजों में से 88 फीसदी हुए स्वस्थ

उधर देश की राजधानी दिल्ली में भी कोरोना पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ बढ़ता जा रहा है. पिछले 24 घंटे में दिल्ली में 4308 नए पॉजिटिव मरीज सामने आये है, अब तक के दिल्ली के सभी रिकॉर्ड टूट गए है. इसी के साथ यहां कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 2 लाख 5 हजार 482 हो गई है.

गत 24 घंटे में 28 लोगों की कोरोना की चपेट में आने से मौत हो गई. अब मृतकों की कुल संख्या 4 हजार 666 हो गई है. वहीं इलाज के बाद दिल्ली में अब तक 1 लाख 75 हजार 400 मरीज ठीक हुए है. जानकारी के मुताबिक इस वक्त दिल्ली में 25 हजार 416 मरीज हैं. आपको बता दें कि दिल्ली में 1272 कंटेनमेंट जोन हैं.