Rajasthan Exclusive > राजस्थान > राजस्थान में चिकित्सा विभाग ने हासिल किया 25 हजार जांच प्रतिदिन करने का लक्ष्य

राजस्थान में चिकित्सा विभाग ने हासिल किया 25 हजार जांच प्रतिदिन करने का लक्ष्य

0
219

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि चिकित्सा विभाग ने प्रदेश में प्रतिदिन 25 हजार कोरोना जांच करने का लक्ष्य हासिल कर लिया है. अब प्रत्येक जिले में जांच सुविधा विकसित करने के लक्ष्य को भी जल्द पूरा कर लिया जाएगा.

डॉ. शर्मा ने बताया कि जब प्रदेश में पहला पॉजिटिव केस आया था तब जांच की सुविधा नहीं थी. सैंपल को भी पुणे की लैब में भेजना पड़ा था लेकिन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में सबसे पहले 10 हजार जांचें प्रतिदिन करने का लक्ष्य रखा गया. कुछ ही दिनों में इसे हासिल कर दोबारा 25 हजार जांचें प्रतिदिन करने के निर्देश दिए गए. आज विभाग प्रतिदिन 25 हजार 150 जांच प्रतिदिन कर पाने में सक्षम हो गया है.

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि भले ही प्रदेश में पॉजिटिव मरीजों की संख्या 10 हजार 696 तक जा पहुंची है लेकिन पॉजिटिव से नेगेटिव होने की संख्या भी उतनी ही तेजी से बढ़ी है. इनमें से 7 हजार 814 लोग स्वस्थ हो चुके हैं. प्रदेश में रिकवरी का रेशो 73 फीसदी से ज्यादा है, जो कि अन्य राज्यों से बेहतर है. उन्होंने बताया कि राज्य में प्रवासी व अन्य सभी एक्टिव केसेज को मिलाकर संख्या केवल 2 हजार 641 है. उन्होंने बताया कि प्रदेश में कोरोना पीड़ित भी 21 दिनों में दोगुने तक हो रहे हैं. उन्होंने बताया कि राज्य में अब तक जो मृत्यु के मामले सामने आए हैं उनमें से ज्यादा लोग अन्य बीमारियों से ग्रसित थे.

डॉ. शर्मा ने बताया कि प्रदेश में कोरोना को नियंत्रित करने में चिकित्सक, नसिर्ंगकर्मी, पैरा मेडिकल स्टाफ, सफाईकर्मी, प्रशासक, पुलिस और लोगों को जागरूक करने के लिए मीडिया की अहम भूमिका रही है. यही वजह है कि राजस्थान कम मृत्युदर, रिकवरी, एक्टिव केसेज के नियंत्रण सहित हर मामले में अग्रणी राज्यों में शुमार रहा है.