Rajasthan Exclusive > राजस्थान > खेरवाड़ा में व्यापारियों ने किया थाने का घेराव

खेरवाड़ा में व्यापारियों ने किया थाने का घेराव

0
145

डूंगरपुर में उदयपुर-अहमदाबाद हाईवे पर तोड़फोड़ और आगजनी करने वाले उपद्रवियों ने बीती देर रात खेरवाड़ा में भी जमकर उत्पात मचाया। जिले के बॉर्डर और उदयपुर जिले में लगने वाले खेरवाड़ा में पांच निजी ट्रेवल्स की बसें जला दीं तथा दुकानों-होटलों में तोड़-फोड़ की। इसके विरोध में शनिवार को व्यापारियों ने खेरवाड़ा थाने का घेराव किया।

व्यापारियों ने एसडीएम को ज्ञापन भी दिया है। मामले को बढ़ता देख प्रशासन ने आदिवासी बहुल खेरवाड़ा और ऋषभदेव में भी इंटरनेट बंद कर दिया है। हालात को भांप कर आईजी बिनीता ठाकुर, एसपी कैलाश चंद्र विश्नोई जिला कलेक्टर चेतन देवड़ा जाब्ते सहित खेरवाड़ा में मौजूद रहे। खेरवाड़ा में व्यापारियों ने कहा कि हमारी दुकानें लूटी जा रही हैं और सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी है। हमारा जो नुकसान हुआ है उसकी भरपाई कौन करेगा। जब सब खत्म हो जाएगा तब सरकार चेतेगी क्या। हालांकि दिन में कोई अप्रिय घटना सामने नहीं आई।

यह भी पढे: बाजार पूरी तरह से बंद, सड़कों पर पसरा सन्नाटा, बाहर निकले कुछ लोगों को पुलिस ने लौटाया

उल्लेखनीय है कि पिछले तीन दिन से डूंगरपुर जिले में उदयपुर-अहमदाबाद नेशनल हाईवे पर कांकरी डूंगरी के पास गुरुवार शाम चार बजे से अराजकता का नंगा नाच जारी है। उपद्रवियों ने दो दिनों में पुलिस की गाड़ियों सहित करीब 55 से अधिक वाहन फूंक डाले हैं, कई मकानों-दुकानों, होटलों में लूटपाट की है।

सिसोद से मोतलीमोड़ के बाद अब उदयरपुर बॉर्डर तक पहुंचे ​​​​​​सिसोद से मोतलीमोड़ के बीच पांच किलोमीटर का एरिया उपद्रवियों के कब्जे में है। यहां परिवहन पूरी तरह रुका हुआ है। अब ये डूंगरपुर के बॉर्डर पर तथा उदयपुर जिले में खेरवाड़ा तक पहुंच गए हैं। पुलिस इनके आगे बेबस नजर आ रही है।

गुस्सा क्यों भड़का?

कैंडिडेट 7 सितंबर से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। पुलिस अधिकारियों ने बातचीत कर उन्हें समझाया कि यहां पर पड़ाव न डालें। फिर भी प्रदर्शन जारी रहा। बिछीवाड़ा पुलिस ने कोविड महामारी के नियम तोड़ने और गैर जमानती धारा में दो अलग-अलग मामले दर्ज किए थे। इसको लेकर कैंडिडेट का गुरुवार से गुस्सा भड़क उठा।

यह भी पढे: 40 घंटे से हाईवे के 10 किमी इलाके पर प्रदर्शनकारियों का कब्जा, दुकान-होटलों में लूटपाट

इंटरनेट सेवाएं बंद

जिले में हाईवे पर शनिवार को तीसरे दिन शांति है, लेकिन तनाव बरकरार है। पुलिस हाइवे पर करीब 2 किमी तक पेट्रोलिंग कर रही है। प्रशासन ने एहतियातन जिले में निषेधाज्ञा लगाते हुए इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी है।

शिक्षक भर्ती की 1167 सीटों को लेकर जारी प्रदर्शन के चलते उदयपुर-अहमदाबाद नेशनल हाइवे बंद है। प्रदर्शनकारी पहाड़ियों पर डेरा डाले हुए हैं। अब तक करीब पांच सौ से भी ज्यादा लोगों के खिलाफ नामजद मामले दर्ज किए जा चुके हैं। तमाम प्रयासों के बावजूद पुलिस बेड़ा हाईवे को खुलवा नहीं सका है। इस बीच हजारों वाहन चालकों को परेशानी झेलनी पड़ रही है।