Rajasthan Exclusive > हमारी जरूरते > नवरात्रि में थाली से गायब होगी आलू, आसमान छू रहे दाम

नवरात्रि में थाली से गायब होगी आलू, आसमान छू रहे दाम

0
90

देश में पिछले साल इन दिनों प्याज ने आम आदमियों के घर के बजट को खराब कर दिया था. पिछले साल प्याज ने अपना ऐसा रंग दिखाया था कि अच्छे-अच्छे लोगों के आंख से आंसू निकलने लगा था.

लेकिन इस साल हालात बिल्कुल अलग नजर आ रहे हैं. इस साल प्याज के साथ ही साथ सब्जियों का राजा कहे जाने वाले आलू ने भी अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया है.

बाजार में इन दिनों आम आदमियों की थाली में सबसे ज्यादा परोसा जाने वाला आलू भी 40 से 50 रुपया प्रति किलो बिक रहा है.

नवरात्रि में और बढ़ सकते हैं दाम

मिल रही जानकारी के अनुसार आलू के दाम 17 अक्टूबर से शुरू होने वाले नवरात्री में इससे भी ज्यादा बढ़ सकते हैं. क्योंकि इस दौरान लोग व्रत रखते हैं इसमें आलू का सेवन सबसे ज्यादा किया जाता है.

आलू व्यापारियों का मानना है कि दामों में होने वाली बढ़ोतरी की पहली वजह यह है कि मंडी में पिछले साल के मुकाबले 40 से 50 फीसदी कम आलू आ रहे हैं और लोगों की मांग बढ़ती ही जा रही है.

इसीलिए आलू के दामों में हर दिन वृद्धि दर्ज की जा रही है.

आम आदमियों का एकमात्र सहारा आलू ने बिगाड़ा घर का बजट

केंद्रीय कृषि मंत्रालय की ओर से जारी आकड़ों के मुताबिक साल 2019-20 के दौरान देश में आलू का उत्पादन 513 लाख टन हुआ था.

जबकि एक साल पहले 2018-19 में देश में आलू का उत्पादन 501.90 लाख टन हुआ था. बारिश के मौसम में हरी सब्जियां महंगी हो जाती है.

इस दौरान लोगों के पास एक मात्र सहारा आलू रहता है. लेकिन इस साल आलू भी आम आदमियों की बजट के पहुंच से दूर होता नजर आ रहा है.

बारिश का सीजन खत्म होने के बाद सब्जियों की नई फसल बाजारों में आ जाती हैं जिसकी वजह से सब्जियों की कीमतों में कमी दर्ज की जाती है.

लेकिन आलू जिस तरीके इस साल अपना रंग दिखा रहा है उससे राहत मिलने के आसार बिल्कुल भी नजर नहीं आ रहे. बल्कि आज भी ज्यादा महंगा होने की उम्मीद जताई जा रही है.

क्योंकि आने वाले दिनों में नवरात्रि का त्योहार शुरू हो रहा है इन दिनों हर साल आलू की खपत बढ़ जाती है.