Rajasthan Exclusive > राजनीती > पहली बार सांसद में महिलाओं की संख्या 100 से अधिक

पहली बार सांसद में महिलाओं की संख्या 100 से अधिक

0
283

आजाद भारत के इतिहास में पहली बार 100 से अधिक महिला सांसद सत्र में शामिल होगी। हालांकि सांसद में महिला आरक्षण बिल अभी तक आधार में ही लटक रहा है परन्तु लोगों की सोच में बदलाव आना शुरू हो चुका है। ऐसा लगता है सांसद में महिला सदस्यों की संख्या 100 के पार देखकर। सांसद का आगामी मानसून सत्र इस बार विशेष रहने वाला है।

आज़ाद भारत के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा जब सांसद में 100 से अधिक महिला सदस्य भागीदारी करेंगी। राज्यसभा के 61 नए सांसदों में 4 महिलाएं हैं। अब सांसद में कुल 103 महिलाएं हो गई हैं। राज्यसभा और लोकसभा सचिवालय ऐसे कार्यक्रम की रूपरेखा बना रहे हैं जिसमें सभी 103 महिला सांसद लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला और राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू इस उपलब्धि का समारोह में सकें।

गौरतलब है कि 17 वीं लोक सभा के लिए देश ने महिलाओं पर भरोसा करते हुए 78 महिला सदस्यों को चुनकर सदन में भेजा था जो अब तक की सबसे अधिक संख्या है। राज्यसभा में 4 नई महिला सदस्यों को मिलाकर संख्या 25 हो गई है। लोकसभा में 14.36 प्रतिशत जबकि राज्यसभा में 10 प्रतिशत से अधिक महिला सदस्य हो गई है। लेकिन केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल महिला सदस्यों का प्रतिशत मात्र 5.8 ही है यानी कुल 103 महिला सांसदों में से केवल 6 महिला सांसदों को मंत्रिमंडल में स्थान दिया गया है। यह कहा जा सकता है कि शुरुआत तो हो चुकी है पर अभी भी काफी कुछ किया जाना बाकी है।