Rajasthan Exclusive > राजस्थान > राजस्थान में 3 दिन के लिए ऑरेंज अलर्ट और पश्चिमी राजस्थान के लिए येलो अलर्ट जारी

राजस्थान में 3 दिन के लिए ऑरेंज अलर्ट और पश्चिमी राजस्थान के लिए येलो अलर्ट जारी

0
13445

देशभर में अच्छी बारिश की उम्मीद मौसम विभाग ने जताई

गुजरात, महाराष्ट्र और गोवा में भी भारी से भारी वर्षा हो सकती है

जयपुर: प्रदेश में सावन माह तो इस बार सूखा-सूखा ही चला गया, लेकिन इसके बाद आए भादों में बादल उमड गुमडकर राजस्थान में बरस रहे है, जिससे आमजन को राहत मिली रही है और किसानों के चेहरे भी खिलते जा रहे है। वहीं, इस माह में प्रदेश केसाथ ही देशभर में अच्छी बारिश की उम्मीद मौसम विभाग ने जताई है और राजस्थान में आज मंगलवार और कल बुधवार को भारी बारिश होने की चेतावनी दी है।

विभाग ने कई राज्यों में अगले दो दिन भारी बारिश की चेतावनी जारी की है और 18 व 19 अगस्त को पूर्वी राजस्थान में भारी से बहुत भारी बारिश होने की आशंका जताई है इसके अलावा गुजरात, महाराष्ट्र और गोवा में भी भारी से बहुत भारी वर्षा हो सकती है।

मौसम विभाग ने पूर्वोत्तर के राज्यों को लेकर भी अलर्ट जारी किया है जहां अगले 4-5 दिनों के दौरान भारी से बहुत भारी बारिश की आशंका जताई गई है। विभाग के मुताबिक 20 तारीख को मेघालय और नागालैंड ,मणिपुर ,मिजोरम और त्रिपुरा में 19 और 20 अगस्त को भारी बारिश हो सकती है।

यह भी पढे: जयपुर की भारी बारिश ने साल 1959 की याद दिला दी, रेड अलर्ट जारी

देश के कई राज्यों में बीते कुछ दिन से काफी तेज बारिश हो रही है जिसके चलते कई जगहों पर बाढ़ के हालात पैदा हो गए हैं। जहां एक ओर असम,बिहार के कई इलाकों में पहले से ही बाढ़ आई हुई है तो वहीं अब आंध्र प्रदेश ,छत्तीसगढ़ , ओडिशा, तेलंगाना में भी भारी बारिश के चलते हालात बिगड़ रहे हैं।

उत्तराखंड में भी भारी बारिश के चलते हुए भूस्खलन के कारण कई राजमार्ग बंद हो गए हैं जिससे जनजीवन प्रभावित हो रहा है। असम में सुधर रहे हालात: असम में बाढ़ के हालात में थोड़ा सुधार हुआ है और राज्य में इस आपदा से प्रभावित लोगों की संख्या में कमी आ रही है। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा जारी बुलेटिन में कहा गया कि बाढ़ से 26,112 लोग प्रभावित हुए । बिहार में प्रकोप बना हुआ है।

यह भी पढे: राजस्थान: जयपुर में सड़कों पर सैलाब, लोग बहेने लगे, 23 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी

राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के अनुसार राज्य में बाढ़ से प्रभावित लोगों की संख्या पिछले 24 घंटे में करीब 12,500 बढ़ गयी और 16 जिलों में अब तक 81,44,356 लोग इस आपदा की चपेट में आये हैं। बंगाल की खाड़ी के ऊपर बने कम दबाव के क्षेत्र के कारण भारी बारिश होने से ओडिशा के कई हिस्सों में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई है। कच्चे मकान क्षतिग्रस्त हो गए। फसल को नुकसान पहुंच रहा है और अब तक कई लोगों की मौत हो गई है।

अगले एक माह तक सक्रिय रहेगा मानसून

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में हुई प्रदेश में मानसून की वर्तमान स्थिति एवं बाढ़ नियंत्रण के लिए की गई तैयारियों की समीक्षा बैठक में मौसम केन्द्र जयपुर के निदेशक आर.एस. शर्मा ने बताया कि प्रदेश में अब तक औसत सामान्य वर्षा से 19 प्रतिशत कम वर्षा हुई है।

चुरू एवं नागौर में सामान्य से अधिक वर्षा हुई है। आने वाले समय में प्रदेश में सामान्य बारिश रहने की संभावना है। अगले एक माह तक मानसून सक्रिय रहेगा। जल संसाधन विभाग के अधिकारियों ने राज्य के प्रमुख बांधों में जल भराव की 16 अगस्त तक की स्थिति के बारे में प्रस्तुतीकरण दिया।

उन्होंने बताया कि राज्य के 22 बड़े बांधों में अपनी भराव क्षमता का 57.12 प्रतिशत पानी उपलब्ध है। बीसलपुर में क्षमता का 56 प्रतिशत, राणा प्रताप सागर में 73 प्रतिशत जबकि जवाहर सागर में 80 प्रतिशत पानी आया है।

मुख्यमंत्री ने कहा है कि प्रदेश में मानसून को देखते हुए अत्यधिक वर्षा एवं बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए सभी तैयारियां रखी जाएं। जयपुर, कोटा एवं अजमेर में विशेष एहतियात बरतने के निर्देश दिए। सभी जिला कलक्टर्स को राहत एवं बचाव कार्यों के लिए तैयारी रखने को कहा।