Rajasthan Exclusive > राजस्थान > कोरोना की बढ़ती संख्या पर नियंत्रण के लिए सरकार पूरी तरह सतर्क: शर्मा

कोरोना की बढ़ती संख्या पर नियंत्रण के लिए सरकार पूरी तरह सतर्क: शर्मा

0
89

जयपुर: चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि कोरोना (Outbreak Coronavirus Rajasthan) को लेकर राज्य सरकार पूरी मुस्तैद और सतर्क है, लेकिन इस महामारी से लडऩे के लिए आमजन की सावधानी भी बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि कोरोना (Outbreak Coronavirus Rajasthan) से डरकर और बचाव के तरीके अपनाकर ही कोरोना को हराया जा सकता है।

डॉ. शर्मा ने कहा कि 2 मार्च को प्रदेश में पहला पॉजिटिव (Outbreak Coronavirus Rajasthan) केस सामने आया था। आज प्रदेश में करीब 1 लाख 10 हजार लोग केस आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि देश में प्रतिदिन एक लाख से ज्यादा मरीज कोरोना की गिरफ्त में आ रहे हैं। यदि संक्रमितों की संख्या इसी तरह बढ़ती रही तो भारत संक्रमितों के आकड़ों में पहले पायदान पर आ जाएगा।

यह भी पढे: कोरोना मरीजों को लेकर राज्य सरकार का बडा फैसला

उन्होंने कहा कि देश में बढ़ती संख्या का असर राजस्थान पर भी पड़ रहा है। चिकित्सा मंत्री ने कहा कि कोरेाना पॉजिटिव (Outbreak Coronavirus Rajasthan) की संख्या में बढ़ोतरी हमारी लापरवाही का परिणाम भी हो सकता है। सरकार लगातार आमजन को बाहर निकलते समय मास्क लगाने, समूह में ना जाने, बार-बार साबुन या सेनेटाइजर से हाथ साफ करने, कम से कम दो गज की दूरी रखने की अपील कर रही है। उन्होंने कहा कि जहां लोगों ने लापरवाही बरती है वहीं पॉजिटिव केसेज में बढ़ोतरी हुई है।

बिना लक्षण के मरीज हैं सबसे बड़ी चुनौती

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि जिन मरीजों में लक्षण नजर आते हैं, उन्हें चिन्हित करने में तो विभाग को कोई परेशानी नहीं है, लेकिन बिना लक्षण के मरीज (Outbreak Coronavirus Rajasthan) आज सबसे बड़ी चुनौती बने हुए हैं। उन्हें पहचानने के लिए केवल जांच ही एकमात्र विकल्प है। चिकित्सा मंत्री ने कहा कि सरकार ने कोरोना के दौर में अन्य राज्यों की तुलना में बेहतरीन काम किया है। इस दौरान न केवल सरकार ने चिकित्सकीय आधारभूत ढांचे को मजबूत किया है, बल्कि हमारी चिकित्सकीय व्यवस्थाएं भी मजबूत हुई हैं।

यही वजह है कि प्रदेश की पॉजिटिविटी दर देशभर में सबसे कम है। प्रदेश में पॉजिटिव से नेगेटिव (Outbreak Coronavirus Rajasthan)होने वाले मरीजों का रिकवरी रेशो भी 82 फीसदी के करीब है। प्रदेश में मृत्युदर में लगातार गिरावट आती जा रही है। वर्तमान में मृत्युदर 1.17 फीसदी है। प्रदेश में लगातार जांचों में बढ़ोतरी की जा रही है। अस्पतालों में शय्याओं में लगातार बढ़ोतरी की जा रही है। वेंटीलेटर्स की संख्या प्रदेश में पर्याप्त मात्रा में है।

कोरोना मरीजों को लेकर राज्य सरकार का बडा फैसला

कल राज्य सरकार ने एक बड़ा फ़ैसला लिया है. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कोविड संक्रमित मरीजों को राहत देते हुए कोरोना से संक्रमित मरीजों के परिजनों को पीपीई किट व अन्य सुरक्षित साधनों के साथ मरीजों से मिलने व उन्हें भोजन उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं. चिकित्सा विभाग के प्रमुख शासन सचिव अखिल अरोरा ने कोरोना से संक्रमित मरीजों के एकाकीपन व उसके कारण उत्पन्न तनाव को दृष्टिगत रखते हुए यह निर्देश जारी किए हैं.

यह भी पढे: भाजपा विधायक कालीचरण सराफ ने मुख्यमंत्री गहलोत पर क्षेत्रवाद का आरोप लगाते हुए जोधपुर के साथ जयपुर को भी बचाने की बात कही

निर्देशों के अनुसार कोविड-19 से संक्रमित मरीज जो राजकीय/निजी चिकित्सालयों में उपचाररत हैं, उनसे उनके परिजनों/रिश्तेदारों को समस्त सुरक्षात्मक उपाय (यथा पीपीई किट, मास्क, दस्ताने, नियत दूरी आदि) अपनाते हुए अस्पताल द्वारा तय समय अवधि में मिल सकते हैं. साथ ही मरीज के परिजन/रिश्तेदार यदि मरीज को घर का खाना देना चाहते हैं तो निर्धारित प्रॉटोकॉल के अनुसार दे सकते हैं.

निर्देश में यह भी कहा गया है कि कोविड डेडिकेटेड अस्पतालों में बैड क्षमता को देखते हुए, उपचार हेतु आने वाले मरीजों की सुविधा व आपात स्थिति को दृष्टिगत रखते हुए पर्याप्त संख्या में व्हील चेयर/स्ट्रेचर एवं छोटे ऑक्सीजन सिलेण्डर हैल्प डेस्क पर उपलब्ध रखा जाना सुनिश्चित करें.