Rajasthan Exclusive > देश - विदेश > पतंजलि पर कोरोनिल के दावे के कारण लगा 10 लाख का जुर्माना

पतंजलि पर कोरोनिल के दावे के कारण लगा 10 लाख का जुर्माना

0
217

मद्रास हाई कोर्ट ने बाबा राम देव की पतंजलि आयुर्वेद और दिव्य योग मंदिर ट्रस्ट के खिलाफ 10 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है. यह जुर्माना पतंजलि आयुर्वेद के उस दावे के लिए लगाया गया है.

इसमें कहा गया था कि उनका आयुर्वेदिक सूत्रीकरण कोरोनिल कोरोना वायरस को ठीक कर सकता है.

गौरतलब है कि योग गुरू की दवा लांच के बाद से ही विवादों में है.

कई राज्यों में इस पर प्रतिबंध लगा रखा है.

इससे पहले मद्रास हाई कोर्ट ने कोरोना वायरस के इलाज को लेकर पेश की गई कोरोनिल दवा के ट्रेडमार्क के इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी.

गौरतलब है कि कोरोनिल को लेकर ये दावा किया गया था कि ये कोविड-19 को ठीक कर सकता है.

मद्रास हाईकोर्ट ने क्या कहा, कोरोना वायरस के इलाज के लिए आम जनता में डर और दहशत का फायदा उठाकर मुनाफे के लिए इसका इस्तेमाल किया गया.

चेन्नई की कंपनी अरुद्रा इंजीनियरिंग लिमिटेड की याचिका पर पिछले महीने यह अंतरिम आदेश जारी किया था.

इसमें कहा गया था कि उसने औद्योगिक उपयोग के लिए ट्रेडमार्क नियमों के अनुसार ‘कोरोनिल -92 बी’ रजिस्टर्ड किया था.

कंपनी ने बताया था इम्युनिटी बूस्टर

कंपनी ने कहा कि जून 1993 में इसके रजिस्ट्री करने के बावजूद, पतंजलि ने COVID-19 महामारी के मद्देनजर अपने ‘इम्युनिटी बूस्टर’ के लिए नाम इस नाम का उपयोग किया था.

उसके मुताबिक 2027 तक उनका ट्रेडमार्क पर अधिकार है.

दिव्य मंदिर योग ने कोरोनिल निर्माण किया था और पतंजलि ने इसकी मार्केटिंग की थी.

कोर्ट ने कहा कि पतंजलि को अपने उत्पाद बेचने से पहले ट्रेडमार्क रजिस्ट्री में जाकर देखना चाहिए कि ये ट्रेडमार्क रजिस्टर्ड है या नहीं.

कोर्ट ने पतंजलि को कहा कि वो चेन्नई स्थित अदयार कैंसर इंस्टीट्यूट और गवर्नमेंट योग एंड नेचुरोपैथी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पीटल को 5-5 लाख रुपये दे.

रोजाना 10 लाख पैकेट की मांग: रामदेव

इससे पहले रामदेव ने बुधवार को दावा किया था कि पतंजलि आयुर्वेद कोरोनिल की मांग को पूरा करने के लिए जूझ रही है.

उन्होंने कहा कि अभी तक वो फिलहाल रोजाना सिर्फ 1 लाख पैकेट की आपूर्ति कर पा रही है.

रोजोना कोरोनिल के 10 लाख पैकेट की मांग हो रही है.

लेकिन हम सिर्फ 1 लाख पैकेट ही दे पा रहे हैं.

रामदेव ने आगे कहा कि पंतजलि आयुर्वेद ने कोरोनिल की कीमत सिर्फ 500 रुपये रखी है.

खबरों के मुताबिक, साल 1993 में Coronil-213 एसपीएल और Coronil -92 बी का रजिस्ट्रेशन कराया गया था.

वह तब से उसका रिन्युअल करा रही है.