Rajasthan Exclusive > राजस्थान > कोविड केयर सेंटर पर अव्यवस्थाओं से परेशान मरीज

कोविड केयर सेंटर पर अव्यवस्थाओं से परेशान मरीज

0
177
  • मरीजों ने खाने का किया बहिष्कार

  • बीसीएमएचओं ने मरीजों को विरोध करने पर फटकारा

खाटूश्यामजी कस्बे में बने कोविड केयर सेंटर पर अव्यवस्थाओं का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि भर्ती मरीजों द्वारा मजबूरन विरोध स्वरूप खाने का बहिष्कार करना पड़ गया।

लेकिन समस्या का समाधान तो दूर सेंटर में भर्ती मरीजों को बीसीएमएचओ की फटकार तक सहनी पड़ रही है।

जी हां, हम बात कर रहे है खाटू श्यामजी स्थित कोविड केयर सेंटर की।

यहां अव्यवस्थाओं से परेशान भर्ती मरीजों ने खाने का बहिष्कार कर विरोध जताया।

कोविड केयर प्रभारियों को सूचना के बावजूद भी समस्या का समाधान नहीं हुआ।

वहीं भर्ती मरीजों के आरोप यह भी है कि कस्बे में बने कोविड केयर सेंटर पर सफाई, सेनेटाइजर का छिड़काव, सही भोजन सहित अन्य सुविधाओं का अभाव है।

इससे भर्ती मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

यह भी पढे: 26 जिलों में कोरोना विस्फोट, 718 नए केस आए, आठ की मौत

कोविड केयर सेंटर प्रभारियों को कई बार अवगत कराने के बाद भी समस्याओं का समाधान नहीं हुआ।

सफाई कर्मचारी वसूल रहा है 200 रुपए

कमरे की सफाई के लिए सफाई कर्मचारी 200 सौ रुपए वसूल रहा है।

अव्यवस्थाओं के चलते कोविड केयर सेंटर पर भर्ती मरीजों ने खाने का बहिष्कार कर दिया।

भर्ती मरीजों का कहना है कि सफाई कर्मचारी कमरे में सफाई नहीं करता है और पैसे देने पर ही सफाई कर रहा।

इसके साथ ही पीने के पानी की भी कोई व्यवस्था नहीं है।

बाथरूम के नल से ही पीने के पानी की व्यवस्था की गई।

सेंटर पर लगे आर ओ मशीन खराब पड़ी है वही खाना भी सही नहीं दिया जा रहा है।

यह भी पढे: कोरोना स्प्रेड को रोकने के लिए गहलोत सरकार का बड़ा कदम

वहीं भर्ती मरीजों का कहना है कि इससे अच्छा तो हम घर पर ही रह कर यह दवाइयां ले सकते थे यहां रहने पर तो हम और भी ज्यादा बीमार हो जाएंगे।

केयर प्रभारी ने उच्चाधिकारी को बताई समस्या

कोविड केयर प्रभारी का कहना है कि भर्ती मरीजों ने खाने की शिकायत की है

हम बेहतर से बेहतर खाना देने की कोशिश कर रहे हैं फिर भी अगर कोई कमी रह गई है तो हम उसको दूर करने का प्रयास करेंगे।

इसके साथ ही आयुर्वेद काढ़े की मांग की गई है जो हमारे पास उपलब्ध था वह मरीजों को दे दिया गया है और सीएमएचओ से मांग की गई है।

इसके साथ ही मरीज धर्मशाला में गर्म पानी की मांग कर रहे हैं।

धर्मशाला संचालकों ने बिजली का बिल अधिक आने के कारण गीजर के कनेक्शन काट दिए, इसके चलते समस्या आई है।

सफाई कर्मचारी नगर पालिका द्वारा लगाए गए हैं लेकिन 70 कमरों के लिए दो कर्मचारी पर्याप्त नहीं है।

इसके चलते कर्मचारी सफाई के नाम पर पैसे ले रहे है इसके खिलाफ हमने उच्च अधिकारियों को लिख दिया।

जो है वो ही सही

भर्ती मरीजों की शिकायत पर बीसीएमएचओ डॉ सुनील धायल भी कोविड केयर सेंटर पर पहुंचे।

जायजा लेने के बाद धायल ने मरीजों की समस्या का समाधान करने की बजाय उन्हें ही फटकार लगा दी।

धायल ने यहां तक कह दिया कि सेंटर पर जो व्यवस्था है वो ही सही है।