Rajasthan Exclusive > देश - विदेश > कोरोनाकाल में PM मोदी ने किसानों को दिया बड़ा तोहफा, 1 लाख करोड़ के फंड का किया आगाज

कोरोनाकाल में PM मोदी ने किसानों को दिया बड़ा तोहफा, 1 लाख करोड़ के फंड का किया आगाज

0
207

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार सुबह 11 बजे वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए 8.5 करोड़ किसानों के खातों में PM किसान सम्मान निधि योजना के तहत 2 हजार रुपए की छठी किस्त जारी किया.

इस मौके पर उन्होंने 1 लाख करोड़ के वित्तपोषण सुविधा का भी आगाज किया.

माना जा रहा है पीएम किसान सम्मान निधि योजना के इस किस्त से 8.55 करोड़ किसानों को सीधा फायदा पहुंचा है. उनके खातों में 17 हजार करोड़ रुपए ट्रांसफर किए गए.

कृषि मंत्री और अधिकारी रहे मौजूद

वित्तपोषण सुविधा और PM किसान सम्मान निधि योजना को लेकर होने वाले वीडियो कांफ्रेंसिग प्रोग्राम में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के साथ ही साथ उनके मंत्रालय के कई सीनियर अधिकारी इस मौके पर मौजूद रहे.

भगवान बलराम जयंती की दी शुभकामनाएं

योजना का आगाज कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सबसे पहले देश के तमाम किसान भाई-बहनों को भगवान बलराम जयंती की शुभकामनाएं दीं उन्होंने कहा कि हलछठ की दाऊ जन्मोत्सव के इस पावन मौके पर कृषि सुविधाओं से जुड़ी तैयारियों के लिए 1 लाख करोड़ रुपये का वित्तपोषण फंड लॉन्च किया गया है.

इस फंड का इस्तेमाल कर किसान गांव में बेहतर भंडारण, बेतहत कोल्ड स्टोरेज तैयार कर सकेंगे. इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि अब गांव के किसानों के पास सिर्फ एक विकल्प नहीं बल्कि कई विकल्प मौजूद होंगे. इससे ग्रामीण लोगों को रोजगार के नए अवसर भी मिलेंगे.

गौरतलब है कि पीएम किसान योजना के तहत किसान परिवारों को सालाना 6 हजार रुपए की राशि दी जाती है. जब से इस योजना को शुरू की गई है तब से लेकर आजतक करीब 10 करोड़ किसानों को इस योजना का फायदा मिल चुका है.

सिर्फ एक बटन दबाने से जमा हो गया पैसा

पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ‘एग्रीकल्चर इन्फ्रास्ट्रक्चर फंड’का आगाज कर कहा कि 8.55 करोड़ किसानों के खातों में स्विच दबाते ही 17 हजार करोड़ रुपया जमा हो गया.

इसके बीच कोई बिचौलिया नहीं, सीधा पैसा किसानों के खातों में जमा हो गया. उन्होंने कहा कि संतोष इस बात का है कि इस योजना का लक्ष्य पूरा हो रहा है.

पीएम मोदी ने कहा कि 22 हजार करोड़ रुपए तो केवल कोरोना की वजह से लागू किए गए लॉकडाउन के दौरान किसानों के खातों में पहुंचाया गया है.