Rajasthan Exclusive > देश - विदेश > सीमा पर तैनात जवानों की शहादत पर सियासत, शिवसेना का पीएम मोदी पर तंज

सीमा पर तैनात जवानों की शहादत पर सियासत, शिवसेना का पीएम मोदी पर तंज

0
156

पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीन और भारतीय सैना के बीच होने वाली हिंसक झड़प में सैना के 20 जवान शहीद हो गए थे. चीन के इस कायरान हरकत के खिलाफ देशभर में गुस्से का माहौल दिखाई दे रहा है. लोग रास्ते पर उतरकर चीनी उत्पादों के बहिष्कार कर रहे हैं. वहीं इस मामले को लेकर देश में सियासी पारा भी गरम हो चुका है कांग्रेस के बाद अब शिवसेना भी पीएम मोदी पर हमलावर हो गई है.

पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस हमले में शहीद हुए बिहार के सैनिकों को श्रद्धांजलि देते हुए उनको बिहार का गर्व बताया था उसी मामले को लेकर शिवसेना हमलावर हुई है. शिवसेना ने अपने मुख्यपत्र सामना में लिखा कि बिहार में चुनावी साल होने की वजह से पीएम मोदी ने बिहार के सैनिकों की तारीफ कर रहे हैं. शिवसेना नेता संजय राउत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला बोलते हुए कहा है कि अगर बिहार के जवानों ने सीमा पर बहादुरी दिखाई तो अन्य रेजीमेंट के जवान क्या सीमाओं पर तंबाकू मलते बैठे थे?

सामना के संपादकीय में लिखा गया कि बिहार चुनाव होने की वजह से प्रधानमंत्री मोदी सेना को जाति और प्रांत में बांट रहे हैं. इस तरह की सियासत कोरोना वायरस से भी ज्यादा खतरनाक है, सामना में आगे लिखा गया कि रेजीमेंट सिर्फ रेजीमेंट होता है जो देश का नेतृत्व करती हैं, किसी प्रांत राज्या या फिर धर्म की नहीं.

शिवसेना नेता संजय राउत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि राजपूताना रेजिमेट, सिख रेजीमेंट है, महार, बिहार, गोरखा और डोगरा रेजीमेंट है. लेकिन सिर्फ एक रेजीमेंट का नाम लेना ये राष्ट्रीय अखंडता के खिलाफ है. उन्होंने कहा कि बिहार में चुनावी साल होने की वजह से पीएम मोदी ने बिहार रेजीमेंट का नाम ले रहे हैं.