Rajasthan Exclusive > राजस्थान > जयपुर में झम झमा झम बारिश, लोगो को गरमी से मीली राहत

जयपुर में झम झमा झम बारिश, लोगो को गरमी से मीली राहत

0
212

राजस्थान में एक बार फिर से मानसून सक्रिय होता दिखाई दे रहा है और राजधानी जयपुर सहित प्रदेश भर के 10 से अधिक जिलों में बारिश हो रही है इस दौरान दोपहर करीब 12:30 बजे से जयपुर के कई इलाकों में रुक रुक कर बारिश हो रही है और नहीं चलने इलाकों में पानी भी भर गया है. शहर की करतारपुरा नाले के पास बड़ी संख्या में पानी भर गया जो पुलिया के ऊपर से पानी बह रहा है.

इस दौरान प्रशासन आमजन से अपील कर रहा है कि जब पुलिया में पानी अधिक भर जाए तो पैदल और यातायात से निकलने वाले लोग पुलिया के ऊपर से ना जाए जिससे कि कोई हादसा नहीं हो वहीं मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश के दक्षिणी पूर्वी हिस्से में मानसून फिर से सक्रिय दिखाई दे रहा है और उत्तरी बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है.

इसके प्रभाव से प्रदेश के दक्षिणपुरी उत्सव में आज बारिश हो रही है मानसून के सक्रिय होने से मेरी गर्दन के साथ बारिश हो रही है मौसम विभाग के अनुसार उदयपुर राजसमंद चित्तौड़ डूंगरपुर बांसवाड़ा सिरोही बूंदी झालावाड़ कोटा और 12 जिले में मेघ गर्जन के साथ और 23 बारिश होने की संभावना है

मानसून के फिर से सक्रिय

राजस्‍थान में एक बार फिर से मानसून के सक्रिय होने के आसार हैं. मौसम विभाग ने प्रदेश के दक्षिण-पूर्वी हिस्सों में दक्षिण पश्चिम मानसून के सक्रिय होने की संभावना जताई है.

मौसम विभाग के अनुसार, उत्तरी बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है. इसके प्रभाव से प्रदेश के दक्षिणी पूर्वी हिस्सों में आज बारिश हो सकती है.

मानसून के सक्रिय होने की संभावनाओं के बीच मौसम विभाग ने प्रदेश के 10 से ज्यादा जिलों में 5 अगस्‍त को मेघगर्जन के साथ भारी बारिश की संभावना जताई है.

मौसम विभाग के अनुसार उदयपुर, राजसमंद, चित्तौडगढ़, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, सिरोही, बूंदी, झालावाड़, कोटा और बारां जिले में कहीं कहीं मेघगर्जन के साथ भारी बारिश की संभावना है.

दो दिन पहले जयपुर में जमकर बरसे थे मेघ

दो दिन पहले सावन के आखिरी सोमवार को राजधानी जयपुर समेत भरतपुर और करौली में जमकर बारिश हुई थी.

वहीं प्रदेश के अन्य इलाकों में हल्की बारिश का दौर चला था. हालांकि इस बार राजस्थान में मानसून की चाल बेहद सुस्त बनी हुई है.

मानसून अपेक्षित परिणाम नहीं दे पाया है, इससे किसान थोड़े मायूस हैं.