Rajasthan Exclusive > राजस्थान > भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया के सामने पार्टी की एकजुटता अभी भी बड़ी चुनौती

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया के सामने पार्टी की एकजुटता अभी भी बड़ी चुनौती

0
145

प्रदेशाध्यक्ष के रूप में डॉ. सतीश पूनियां (Rajasthan BJP latest News) का एक साल पूरा हो चुका है। इस एक साल में अपने सामने आई अधिकतर चुनौतियों का सामना पूनियां (Rajasthan BJP latest News) ने बहुत अच्छे से किया है। लेकिन पार्टी को गुटबाजी से दूर रखते हुए एकजुट बनाए रखना सबसे बड़ी चुनौती थी, इसे दूर करने में पूनियां (Rajasthan BJP latest News) कि अभी तक सफलता हाथ नहीं लगी है । पार्टी का एक धड़ा आज भी पूनियां से नाराज है और इस धड़े की नाराजगी चलते ही पिछले दिनों राजस्थान के सियासी संग्राम में भाजपा फेल हो गई।

पूनियां (Rajasthan BJP latest News) के लिए सबसे बड़ी टास्क प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा करना था। इस घोषणा को पूरा करने में पूनियां को करीब 11 महीने का वक्त लग गया। इसके बाद भी कार्यकारिणी में पार्टी के कुछ नेताओं की अनदेखी साफ नजर आई। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी शामिल हैं। राजे और पूनियां के बीच अनबन लंबे समय से चल रही है। पार्टी के ज्यादातर कार्यक्रमों से उनकी दूरी इस अनबन को जगजाहिर भी कर चुकी है।

यह भी पढे: प्रदेश में सप्ताह में दो दिन पूर्ण लॉक डाउन करे सरकार:पूनिया

इसी तरह अभी तक प्रदेश कार्यसमिति, मोर्चा और प्रकल्पों की घोषणा करना बाकी है। इनकी घोषणा में सभी को खुश रखने के चक्कर में देरी हो रही है। यही वजह है कि मामले को लेकर कई नेता मुखर भी हो रहे हैं। यही वजह है कि अब राजस्थान में प्रदेश कार्यसमिति, मोर्चा और प्रकल्पों की घोषणा केंद्रीय नेतृत्व की मंजूरी के बाद ही हो पाएगी।

राजस्थान में पिछले दिनों चले सियासी संग्राम के दौरान सरकार गिरने का खतरा पैदा हो गया था, लेकिन इस सुनहरे मौके को भी पूनियां (Rajasthan BJP latest News) नहीं भुना पाए। उलटे पार्टी की गुटबाजी भी खुलकर सामने आ गई। कई नेता पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का अनदेखा करने के आरोप भी लगाते रहे। नतीजा पायलट गुट वापस सरकार में लौट आया और सियासी संकट खत्म हो गया।

यह भी पढे: कोरोना को गंभीरता से लें, लापरवाही नहीं बरतें: मुख्यमंत्री

हालांकि कोरोना काल के दौरान पूनियां के नेतृत्व में भाजपा ने सामाजिक सरोकार का जबर्दस्त काम किया। लाखों लोगों को भोजन के पैकेट और कच्चा राशन उपलब्ध कराने के साथ ही प्रवासियों को उनके घर तक पहुंचाने में भाजपा कार्यकर्ता जुटे रहे। इसे लेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा टीम राजस्थान की तारीफ भी की।

आने वाले दिनों में भी पूनियां (Rajasthan BJP latest News) के समक्ष चुनौतियां कम नहीं हैं। पंचायत और निकाय चुनाव में भाजपा को जीत दिलाने के साथ ही सभी नेताओं को एकजुट रखने की बड़ी चुनौती पूनियां के सामने है।

लोकतंत्र में फ़ीडबैक कार्यक्रम अच्छी परिपाटी है

पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने प्रदेश प्रभारी अजय माकन के दौरे पर शुक्रवार सुबह मीडिया से रूबरू होते हुए कहा कि ये सकारात्मक कदम हैं, सैंकडो लोगो ने अपनी बाते रखी, प्रभारी अजय माकन ने भी खुले वातावरण में बाते सुनी। पायलट ने कहा कि पार्टी में जोश हैं, अतिउत्साह की बात रही होगी, सीमित कार्यक्रम हो और ज्यादा लोग मिलना चाहे तो ऐसा होता हैं, नकारात्मकता से इसे नही लेना चाहिए, फोकस इस बात पर हो कि पार्टी कैसे मजबूत हो।

आगे कहा कि हर व्यक्ति को बात कहने की छूट हैं, अच्छा प्लेटफाँर्म है ये, लोकतंत्र में ये फीडबैक कार्यक्रम अच्छी परिपाटी हैं, प्रभारी ने लोगो से मुलाकात कर बाते नोट की हैं, उम्मीद हैं जल्द AICC कार्रवाई भी करेगा।

सचिन पायलट जी ने कहा कि राहुल गांधी की बात जायज हैं , कहा- देश मे अर्थव्यवस्था को लेकर भयंकर संकट, उद्योग बंद हो रहे हैं, 2 करोड नौकरियां देने का वायदा केंद्र ने किया, जबकि, 2 करोड 10 लाख नौकरियां खत्म हो चुकी, वेतन में कटौती हो रही हैं, चीन हमारी सीमा में घुस रहा हैं, ध्यान डायवर्ट करने के लिए दूसरी बाते हो रही हैं, देश सेना के साथ खडा हैं,