Rajasthan Exclusive > स्कूल फीस मुद्दे को लेकर पहली बार राजस्थान बंद

स्कूल फीस मुद्दे को लेकर पहली बार राजस्थान बंद

0
376
  • सभी व्यापारियों और दुकानदारों ने पूर्ण समर्थन दिया

  • बंद को सफल बनाने के लिए जनता की अपील

  • जामा मस्जिद के इमाम ने भी बन्द में शामिल होने की घोषणा

जयपुर: कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन से उपजे व्यापारिक संकट के चलते पूरे देश का अभिभावक पहले से ही चिंतित है.

उसके बावजूद निजी स्कूल संचालक जबरन फीस वसूलने के षड्यंत्र रचकर अभिभावकों को प्रताडि़त और अपमानित कर रहे है।

स्कूलों की बढ़ती मनमर्जी पर लगाम लगाने के लिए पिछले 4 महीनों से लगातार संघर्ष कर रही संयुक्त अभिभावक समिति ने आज राजस्थान बन्द का आह्वान किया है.

जिसे प्रदेशभर के जनप्रतिनिधियों, व्यापारियों, दुकानदारों और सामाजिक संगठनों ने भी अपना पूर्ण समर्थन दिया है।

प्रदेश के डेढ़ करोड़ से अधिक अभिभावकों की संख्या है, जो लगातार पिछले 5 महीनों से स्कूलों से गुहार लगा रही है।

केंद्र और राज्य सरकार से राहत की मांग कर रही है लेकिन अभिभावकों की पीड़ा को कोई ना सुनने को तैयार है ना समझने को तैयार है।

यह भी पढे: लेडी डॉन अनुराधा ने वीडियो कॉल कर मांगी रंगदारी

अभिभावकों ने हताश और निराश होकर राजस्थान बन्द का आह्वान रखा है, जिसको भरपूर समर्थन मिल रहा है।

450 से अधिक सामाजिक, व्यापारिक और दुकानदार संगठनों ने समर्थन का ऐलान किया है।

रविवार को बन्द के समर्थन के लिए जयपुर सहित जोधपुर, भीलवाड़ा, चितौडग़ढ़, अजमेर, किशनगढ़, फतेहपुर शेखावाटी, टोंक, झालावाड़, बगरू सहित अनेको जिलो में अभिभावकों के विभिन्न समूहों ने दुकान दर दुकान जाकर 50 हजार से भी अधिक पर्चे बांटे और अभिभावकों के समर्थन में बंद को सफल बनाने के लिए हाथ जोड़कर अपील की।

यह भी पढे: कोटा में आज और कल शाम 5 बजे तक लॉकडाउन

जिसे सभी व्यापारियों और दुकानदारों ने पूर्ण समर्थन दिया।

इस दौरान जौहरी बाजार जामा मस्जिद के इमाम ने भी बन्द में शामिल होने की घोषणा की।