Rajasthan Exclusive > राजस्थान > निगम चुनावों का फॉर्मूला पंचायत चुनाव में अपनाते हुए कांग्रेस ने कई जगह प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की

निगम चुनावों का फॉर्मूला पंचायत चुनाव में अपनाते हुए कांग्रेस ने कई जगह प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की

0
114

प्रदेश के 21 जिलों में जिला परिषद और पंचायत के चार चरणों में होने वाले चुनाव के नामांकन की आज आखिरी तारीख है।नामांकन पत्रों की जांच मंगलवार को दोपहर 3 बजे तक होगी और उसके बाद नाम वापस लिए जा सकेंगे। गौरतलब है कि प्रदेश के 21 जिलों में 636 जिला परिषद सदस्यों और 4371 पंचायत समिति सदस्यों के चुनाव होने हैं इनमें 2 करोड़ 41लाख 87 हजार 946 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे। यह चुनाव 4 चरणों में होने हैं पहले चरण के लिए 23 नवंबर दूसरे चरण के लिए 27 नवंबर तीसरे चरण के लिए 1 दिसंबर और चौथे चरण के लिए 5 दिसंबर को मतदान होना है।

लेकिन निगम चुनाव की तर्ज पर पंचायत जिला परिषद चुनाव में भी कांग्रेस ने अभी तक कई जगह पर अपने प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की है, जिन प्रत्याशियों के नाम फाइनल हो गए हैं उन्हें फोन के जरिए सूचित कर नामांकन दाखिल करने को कहा गया है। पार्टी सिंबल भी सीधे ही जिला परिषद को भेजे जा रहे हैं।

यह भी पढे: बीजेपी मेयर प्रत्याशी के पति पर पार्षदों की खरीद-फरोख्त का आरोप, ACB ने शुरू की जांच

पार्टी में बगावत को रोकने के लिए कई जिलों में प्रत्याशियों के नाम सार्वजनिक नहीं किए जा रहे हैं। कहा जा रहा है है कि दोपहर को प्रत्याशियों की घोषणा की जा सकती है। कांग्रेस ने इन चुनावों में भी नगर निगम चुनावों में नामांकन से पहले प्रत्याशियों के नाम सार्वजनिक नहीं करने वाला फ़ॉर्मूला अपनाया है। निगम चुनाव में नामांकन के कई जगहों पर नामांकन के दो या तीन घटें बीतने के बाद प्रत्याशियों के नाम सार्वजनिक किए गए थे।

नगर निगम चुनाव की तर्ज पर ही पंचायत और जिला परिषद चुनाव में भी टिकट वितरण में विधायकों की जमकर चली है। अधिकांश नाम उन्हीं की मर्जी से तय किए गए हैं। पर्यवेक्षकों ने भी विधायकों की सलाह से ही नाम तय किए हैं।

यह भी पढे: केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल और सांसद कनकमल कटारा के पुत्र भी जिला परिषद चुनाव में प्रत्याशी

प्रदेश के अजमेर, चूरू, नागौर, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, पाली, बाड़मेर, हनुमानगढ़, प्रतापगढ़, भीलवाड़ा, जैसलमेर, राजसमंद, बीकानेर, जालोर, सीकर, बूंदी, झालावाड़, टोंक, चित्तौड़गढ़, झुंझुनूं और उदयपुर जिलों में जिला परिषद और पंचायत समिति सदस्यों के चुनाव कराएं जाएंगे। 21 जिलों में 33611 मतदान केन्द्र स्थापित किए गए हैं।