Rajasthan Exclusive > राजस्थान > 96 हजार से ज्यादा हो चुके हैं प्रदेश में संक्रमित 15,000 से ज्यादा का चल रहा है इलाज

96 हजार से ज्यादा हो चुके हैं प्रदेश में संक्रमित 15,000 से ज्यादा का चल रहा है इलाज

0
174

राजस्थान में गुरुवार की सुबह 716 नए रोगी सामने आए हैं। इसके बाद राजस्थान (Rajasthan corona latest news)में अब तक कोरोना के शिकार लोगों का आंकड़ा 96452 पर जा पहुंचा है। इनमें से 79460 लोग रिकवर हो चुके हैं। वही78203 लोग डिस्चार्ज होकर अपने घरों को लौट गए हैं। अभी प्रदेश में 15 807 लोग संक्रमित बचे हैं।

जिनका अस्पतालों में और होम आइसोलेशन में इलाज चल रहा है। गुरुवार की सुबह 7 और लोगों की कोरोना के चलते मौत हो गई। इसके बाद प्रदेश में कुल मौतों का आंकड़ा 1185 पर जा पहुंचा है।

गुरुवार की सुबह आए मरीजों में सबसे ज्यादा रोगी  (Rajasthan corona latest news) जयपुर में 129 है । जयपुर अब ऐसा जिला बन गया है जिसमें सबसे ज्यादा संक्रमित रोजाना सामने आ रहे हैं। उसके अलावा जोधपुर में भी 111 नए मामले कोरोना के हैं। यहां संक्रमण की शुरुआत के बाद से ही कोरोनावायरस भी कंट्रोल में नहीं आया है। मरीजों की संख्या लगातार बढ़ी है।

यह भी पढे: कोरोनाकाल में पुलिस के प्रति बढ़ा आमजन का विश्वास

इसके अलावा अजमेर में 25, अलवर में 34 ,बांसवाड़ा में 11, बारां में 14, बाड़मेर में 8 भरतपुर मे 12, भीलवाड़ा में 27,, बीकानेर में 26, बूंदी में 9, चित्तौड़गढ़ में 16, चूरू में 15, दोसा में 4, धौलपुर में 22, डूंगरपुर में 10 ,गंगानगर में 19, हनुमानगढ़ में 18, जालौर में 13, झालावाड़ में 36, झुंझुनू में 2, कोटा में 47, नागौर में 32, पाली में 25, प्रतापगढ़ में 10, राजसमंद में 3, सवाई माधोपुर में 8, सिरोही में 11, टोंक में 6, उदयपुर में 11 नए रोगी सामने आए हैं।

कोरोनाकाल में पुलिस के प्रति बढ़ा आमजन का विश्वास

कोरोना (Rajasthan corona latest news)के दौरान प्रदेश में पुलिस ने अभिभावक की भूमिका निभाई। आमजन में पुलिस का भय कम होकर पुलिस के प्रति विश्वास बढ़ा है। पुलिस ने सच्चे प्रहरी के रूप में अपने व अपने परिवार की परवाह किए बिना दिन-रात कार्य किया। महिला पुलिस कर्मियों ने भी अपना जीवन दाव पर लगाकर लोगों का जीवन बचाने के लिए लोकहित में अनेक संवेदनशील उदाहरण पेश किए। इस तरह की अनेक सकारात्मक टिप्पणियां कोरोना काल के दौरान पुलिस की भूमिका के बारे में आयोजित एक सर्वेक्षण में प्रकट की गई। यह ऑनलाइन सर्वेक्षण जेकेलोन अस्पताल के एसोसिएट प्रोफेसर शिशु रोग डॉ. योगेश यादव एवं संयुक्त निदेशक प्रचार पुलिस मुख्यालय गोविन्द पारीक ने संयुक्त रूप से किया।

डॉ. यादव ने बताया कि,

“2 सप्ताह चले इस सर्वें में कुल 25 जिलों के 153 लोगों ने भाग लिया। सर्वे में भाग लेने वाले सदस्यों की आयु 18 से 65 वर्ष के बीच थी। सर्वे में भाग लेने वाले उत्तरदाताओं ने निर्धारित प्रश्नावली के अनुसार गूगल फार्म भरकर सवालों के जवाब दिए। उत्तरदाताओं की गोपनीयता का भी पूरा ध्यान रखा है। सर्वे में होने शामिल होने वाले लोगों में 55 प्रतिशत लोग स्नातकोत्तर, 35 प्रतिशत स्नातक एवं 8 प्रतिशत स्कूली शिक्षा ही ले पाए थे। इसके अलावा 2 प्रतिशत लोग अशिक्षित थे। सर्वे में 13 प्रतिशत महानगरी पृष्ठभूमि से थे एवं 24 प्रतिशत शहरी, 10 प्रतिशत कस्बाई व 53 प्रतिशत लोग ग्रामीण पृष्टभूमि के थे।”

लॉकडाउन में 65 फीसदी लोग नहीं डरे पुलिस से सर्वे के दौरान उत्तरदाताओं ने कोरोना वारियर के रूप में पुलिस की कार्यप्रणाली को सराहा है। सर्वे में पूछे गए सवाल में 65 प्रतिशत लोगों को लॉकडाउन एवं अनलॉक के दौरान पुलिसकर्मियों से डर नहीं लगा, जबकि 35 लोगों को लोगों के दौरान पुलिसकर्मियों से डर महसूस हुआ। एक अन्य सवाल के जवाब में लगभग 92 प्रतिशत लोगों ने माना कि लॉकडाउन के दौरान अपराध कम हुए।

यह भी पढे: कोरोना से मरने वाले की बॉडी का परिजन कर सकेंगे अंतिम संस्कार

77 फीसदी ने माना, पुलिस की साख बढ़ी

सर्वे में पूछे गए सवाल के जवाब के अनुसार 77 प्रतिशत लोगों ने माना कि कोरोना (Rajasthan corona latest news) के दौरान पुलिस की साख बढ़ी है, जबकि 15 प्रतिशत लोगों ने बताया कि पुलिस के साख उनके मन में पहले जैसी है। शेष 8 प्रतिशत लोगों ने इस बारे में कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। डॉ. यादव ने बताया कि संयुक्त निदेशक पारीक के मार्ग दर्शन में हुए इस सर्वेक्षण की टीम में सीनियर डेमोन्सट्रेटर फिजीयोलॉजी डॉ. कविता, डॉ. विकास सैनी एवं डॉ. दिलीप कागा शामिल थे।