Rajasthan Exclusive > राजस्थान > सीकर में 3284 कोरोना मरीजों में से 88 फीसदी हुए स्वस्थ

सीकर में 3284 कोरोना मरीजों में से 88 फीसदी हुए स्वस्थ

0
209
  • 366 मरीजों का किया जा रहा है इलाज

  • जिले में मिले 16 नए पॉजिटिव केस

राजस्थान के सीकर जिले में बुधवार को स्वास्थ्य भवन के एक कर्मचारी सहित फिर 16 नए कोरोना पॉजिटिव (Rajasthan Corona Update)केस मिले। वहीं, 54 मरीज कोविड केन्द्रों से स्वस्थ होकर घर पहुंचे। मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अजय चौधरी ने बताया कि बुधवार को सीकर शहर में चार, नीमकाथाना व फतेहपुर ब्लॉक में तीन-तीन, लक्ष्मणगढ में दो, कूदन, पिपराली, श्रीमाधोपुर और दांता ब्लॉक में एक-एक नए कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए।

इसके बाद सीकर जिले में कोरोना (Rajasthan Corona Update)के कुल मरीजों की संख्या 3 हजार 284 हो गई। इनमें से 366 मरीजों का फिलहाल कोविड केन्द्रों पर उपचार चल रहा है। डॉ. चौधरी ने बताया कि बुधवार को मिले कोरोना मरीजों के उपचार के साथ प्रभावित इलाकों में सर्वे, सैंपलिंग व सेनिटाइजेशन की कवायद की गई है।

88.06 फीसदी हुई रिकवरी रेट

इधर, सीकर जिले में बुधवार को 54 मरीज स्वस्थ होने पर रिकवरी रेट में भी बढ़ोत्तरी हुई। जिले में अब तक 2 हजार 892 कोरोना मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। इसके आधार पर रिकवरी रेट 88.06 फीसदी पहुंच गई है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार मार्च से अब तक सीकर शहर में कोरोना पॉजिटिव मिले 906 व्यक्तियों में से 833 स्वस्थ हो चुके हैं।

यह भी पढे: बिना लक्षणो के संक्रमित होटलो में ही निर्धारित दरो पर उपचार करा शकेगें

वहीं फतेहपुर ब्लॉक में 485 में से 417 स्वस्थ हो चुके हैं। खण्डेला ब्लॉक में 380 में से 365, कूदन ब्लॉक में 110 में से 97, लक्ष्मणगढ ब्लॉक में 218 में से 189, नीमकाथाना ब्लॉक में 369 पॉजिटिव व्यक्तियों में से 304, पिपराली ब्लॉक में 215 में से 181, श्रीमाधोपुर ब्लॉक में 373 में 299 और दांता ब्लॉक में 228 में से 207 व्यक्ति स्वस्थ हो चुके हैं।

बुधवार को लैब में 340 सैम्पल की हुई जांच

उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सीपी ओला ने बताया कि जिलेभर में कोविड-19 के 80 हजार 911 सैम्पल लेकर जांच किए जा चुके हैं। इनमें से 76 हजार 674 की रिपोर्ट नगेटिव आई हैं। 429 प्रक्रियाधीन है। बुधवार को श्री कल्याण मेडिकल कॉलेज सांवली में संचालित कोविड-19 लैब में 340 सैम्पलों की जांच हुई।

इनमें से 324 की रिपोर्ट नेगेटिव और 16 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। वहीं जयपुर में हुए सैम्पल व उनकी रिपोर्ट का परिणाम शामिल नहीं है। बुधवार को जिलेभर में 301 सेम्पल लिए गए हैं। दांता ब्लॉक से 80, फतेहपुर क्षेत्र से 44, खण्डेला ब्लॉक से 27, लक्ष्मणगढ क्षेत्र से 10, नीमकाथाना ब्लॉक से 23, श्रीमाधोपुर ब्लॉक से 34 और सीकर शहर से 83 सैम्पल लिए गए है।

कोटा में 179 नए मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव, 2 की मौत 

जिले में बुधवार को भी 179 नए मरीज आए और दो और मौतें हुई। स्थानीय स्तर पर मौतें सरकारी रिपोर्ट से ज्यादा हैं। मोर्चरी पर अब कोविड पॉजिटिव या नेगेटिव मरीजों को लेकर भी कोई एहतियात नहीं बरती जा रही, क्योंकि अब सभी तरह के शव परिजनों को दिए जा रहे हैं।

यह भी पढे: 96 हजार से ज्यादा हो चुके हैं प्रदेश में संक्रमित 15,000 से ज्यादा का चल रहा है इलाज

जेकेलोन हॉस्पिटल में एडमिट दो महिलाएं कोरोना संक्रमित (Rajasthan Corona Update)पाई गई, जिन्हें नए अस्पताल के कोविड वार्ड में शिफ्ट कराया गया है। इनमें से एक महिला की डिलीवरी जेकेलोन में हो चुकी थी, जबकि दूसरी महिला का सीजेरियन कोविड वार्ड में ही कराया गया। वहीं लंग्स में इंफेक्शन के बाद मेडिकल कॉलेज के एडिशनल प्रिंसिपल डॉ. देवेंद्र विजयवर्गीय व उनकी पत्नी भी एसएसबी में एडमिट हुए हैं। दोनों को एंटी वायरल थैरेपी शुरू की गई है।

कोरोना (Rajasthan Corona Update)संक्रमित होकर सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक में भर्ती मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. विजय सरदाना ने बुधवार को वार्ड में भर्ती अन्य मरीजों से हालचाल पूछे और उनसे फीडबैक लिया। वार्ड-ए में पहुंचकर वे एक-एक रोगी से मिले और उनसे बातचीत की। स्वयं के संक्रमित होने के बावजूद सक्रिय होने का उदाहरण देकर रोगियों को उन्होंने ऊर्जावान व पॉजिटिव रहने का संदेश दिया।

बिना लक्षणो के संक्रमित होटलो में ही निर्धारित दरो पर उपचार करा शकेगें

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि प्रदेश के उन एसिंप्टोमेटिक कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए होटलों की दरें निर्धारित की हैं, जो निजी कमरों में रहना चाहते हैं। राज्य सरकार ने चयनित अस्पतालों को जरूरी जांच के बाद ऐसे मरीजों को होटल भेजने के लिए अधिकृत किया है।

डॉ. शर्मा ने बताया कि जो सामान्य और बिना लक्षणों के मरीज हैं और जिनकी स्थिति गंभीर नहीं है। ऐसे मरीजों को अलग कमरे और चिकित्सकों की निगरानी में देखरेख की जरूरत होती है। सरकार ने आमजन की मंशा जान 5 हजार, 4 हजार और 3 हजार रुपए प्रतिदिन के अनुसार होटल्स को अधिकृत किया है, जोकि सभी जरूरी और चिकित्सकीय सुविधाएं इस श्रेणी के मरीजों को उपलब्ध कराएगी।