Rajasthan Exclusive > राजस्थान > जिला परिषद व पंचायत समिति सदस्यों के चुनाव कार्यक्रम की घोषणा, 21 जिलों में चार चरणों में होगा मतदान

जिला परिषद व पंचायत समिति सदस्यों के चुनाव कार्यक्रम की घोषणा, 21 जिलों में चार चरणों में होगा मतदान

0
172

राजस्थान में राज्य निर्वाचन आयोग ने राज्य के 21 जिलों में जिला परिषद एवं पंचायत समिति सदस्यों के चार चरणों में कराने के लिए कार्यक्रम घोषित कर दिया है। 21 जिलों में 636 जिला परिषद सदस्यों व 4371 पंचायत समिति सदस्यों के निर्वाचन के लिए 2 करोड़ 41 लाख, 87 हजार, 9 सौ 46 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे। 12 जिलों अलवर, भरतपुर, बारां, दौसा, धौलपुर, जयपुर, जोधपुर, करौली, कोटा, श्रीगंगानगर, सवाईमाधोपुर, और सिरोही में ये चुनाव नहीं होंगे। क्योंकि इन जिलों में 18 नई नगर पालिकाएं बनाई गई है।

इन नगर पालिकाओं के बनने से इन जिलों की 48 ग्राम पंचायतें प्रभावित हुई है। हाईकोर्ट में विचाराधीन याचिकाओं में इन नवगठित नगर पालिकाओं के मामले में कोर्ट से अंतरिम स्थगन प्रदान कर दिए जाने के कारण चुनाव नहीं करवाया जा रहा। चुनाव कार्यक्रम की घोषणा के साथ ही संबंधित निर्वाचन क्षेत्रों में आदर्श आचरण संहिता के प्रावधान प्रभावी हो गए हैं, जो चुनाव प्रक्रिया समाप्ति तक लागू रहेंगे।

यह भी पढे: नगर निगम चुनाव में सीएम गहलोत का ‘गढ़’ बना नाक का सवाल केंद्रीय मंत्री-सांसद तक मांग रहे वार्ड प्रत्याशी के लिए वोट

चुनाव आयुक्त पी.एस. मेहरा ने शनिवार को चुनाव कार्यक्रम घोषित करते हुए बताया कि प्रथम चरण में 23 नवंबर, द्वितीय चरण में 27 नवंबर, तृतीय चरण में एक दिसंबर और चतुर्थ चरण में पांच दिसंबर को मतदान होगा। मतगणना आठ दिसंबर को होगी। 10 दिसंबर को प्रधान और प्रमुख, 11 दिसंबर को उप प्रधान चुने जाएंगे। मेहरा ने बताया कि चारों चरणों के लिए संबंधित जिला निर्वाचन अधिकारी की ओर से चार नवंबर को अधिसूचना जारी कर दी जाएगी। इसी के साथ नामांकन पत्र भरने की प्रक्रिया प्रारंभ हो जाएगी।

उन्होंने बताया कि नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि एवं समय नौ नवंबर अपरान्ह तीन बजे तक रहेगी। नाम निर्देशन पत्रों की संवीक्षा 10 नवंबर प्रात: 11 बजे से होगी, जबकि 11 नवंबर दोपहर 3 बजे तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। नाम वापसी के साथ ही चुनाव प्रतीकों का आवंटन एवं चुनाव लडऩे वाले अभ्यर्थियों की सूची का प्रकाशन कर दिया जाएगा।

प्रथम चरण के लिए 23 नवंबर, द्वितीय चरण के लिए 27 नवंबर, तृतीय चरण के लिए 1 दिसंबर और चतुर्थ चरण के लिए 5 दिसंबर को प्रात: 7.30 बजे से सायं 5 बजे तक मतदान करवाया जाएगा। मतगणना 8 दिसंबर को प्रात: 9 बजे से सभी जिला मुख्यालयों पर होगी। इसी तरह प्रधान या प्रमुख का चुनाव 10 दिसंबर और उप प्रधान या उप प्रमुख 11 दिसंबर को चुनाव होगा। सायं 5 बजे या मतदान की समाप्ति के साथ ही मतगणना प्रारंभ हो जाएगी।

यह भी पढे: बागी बन कर मैदान में उतरे उम्मीदवारों के खिलाफ लिया जाएगा एक्शन: सतीश पूनिया

मेहरा ने बताया कि कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए आयोग की ओर से अब प्रत्येक मतदान बूथ पर मतदाताओं की संख्या भी कम करके 900 कर दी गई है। इससे पहले एक मतदान बूथ पर 1100 मतदाताओं की सीमा निर्धारित थी। मतदाताओं की संख्या के अनुसार 21 जिलों में 33 हजार 611 मतदान बूथ स्थापित किए जाएंगे। इसके साथ ही पंचायत और नगर निगम चुनाव की तरह ही यहां भी मतदान के समय में बढ़ोतरी कर मतदान का समय प्रात: 7.30 बजे से सांय 5.00 बजे तय किया गया है, ताकि मतदाता सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करते हुए मतदान कार्य कर सके।

चुनाव आयोग ने जिला परिषद सदस्य के चुनाव लड़ रहे अभ्यर्थियों के लिए एक लाख 50 हजार और पंचायत समिति सदस्य के लिए 75 हजार रुपए खर्च सीमा निर्धारित की है।