Rajasthan Exclusive > राजस्थान > राजस्थान के बेमिसाल हौंसले को मेरा सलाम: राज्यपाल

राजस्थान के बेमिसाल हौंसले को मेरा सलाम: राज्यपाल

0
112

जयपुर: राज्यपाल कलराज (Rajasthan Governor Latest News) मिश्र ने कहा है कि राजस्थान की भौगोलिक स्थिति की अपनी चुनौतियां हैं। यहां की जलवायु और आबोहवा कभी कभी इतनी चुनौतीपूर्ण हो जाती है कि एक सामान्य व्यक्ति का उस परिस्थिति में रहना कठिन हो जाता है लेकिन राजस्थान के रणबांकुरों का ही हौसला है कि वे कठिन परिस्थितियों में भी न सिर्फ हंसते मुस्कुराते रहते हैं बल्कि नायाब चीजों का सृजन करने के लिए भी प्रेरित रहते हैं। राजस्थान के इस बेमिसाल हौंसले को मैं सलाम करता हूं।

राज्यपाल मिश्र (Rajasthan Governor Latest News) सोमवार को यहां राजभवन से वीडियो कान्फ्रेन्स के माध्यम से इन्दिरा गांधी राष्टीय कला केन्द्र द्वारा आयोजित हिन्दी दिवस पर गुलाब कोठारी की पुस्तक मेरा राजस्थान लोक जीवन की बानगी पुस्तक के लोकार्पण और परिचर्चा के आभासी समारोह को सम्बोधित कर रहे थे।

यह भी पढे: शिक्षा विभाग के 4,05,633 कार्मिक झेलेंगे वेतन कटौती मार

राजस्थान ने समृद्ध लोक सांस्कृतिक परंपराओं को संजो रखा है। लोक कला के विभिन्न माध्यम जिसमें संगीत,नृत्य, साहित्य,चित्रकला समाहित है, साथ ही साथ आभूषण,वस्त्र विन्यास,खान पान एवं जीवन शैली की निराली शान के लिए राजस्थान की अपनी विशिष्ट पहचान है।

राज्यपाल (Rajasthan Governor Latest News) ने कहा कि राजस्थान का लोक जीवन प्रकृति से इतना ज्यादा समरस है कि यहां की सम्पूर्ण जीवन शैली, संस्कृति, खान पान, वेशभूषा, लोकाचार, उत्सव, त्यौहार, मेले, पर्व सभी कुछ भौगोलिक परिस्थितियों से जुड़े हुए नजर आते हैं। राजस्थान सामाजिक, सांस्कृतिक और संस्कृति की अमूल्य धरोहर है। यहां आज भी पुरातन सांस्कृतिक परंपरा, यहां की लोककलाएं जीवंत हैं।

राज्यपाल (Rajasthan Governor Latest News) ने कहा कि कोठारी के चिंतन में गहराई है। पुस्तक में राजस्थान के भूगोल का विस्तार से उल्लेख किया है। वास्तव में भूगोल के आधार पर प्रकृति और लोक संस्कृति का ज्ञान होता है। लोक परम्पराओं और लोक व्यवहार को स्थानीय मेलो में देखा जा सकता है। मिश्र ने कहा कि कोठारी की यह पुस्तक लोक जीवन पर शोध है।

यह भी पढे: पहले ही दिन नियम 377 के तहत संसद में उठाये जीएसटी में विसंगतियों से संबंधित मुद्दे

राज्यपाल (Rajasthan Governor Latest News) ने कहा कि राजस्थान का कण कण ऐतिहासिक है। यहां मरू भूमि, पर्वत, नदी-नाले और जनजातीय इलाकों की हरियाली की अपनी ही गाथा है।

समारोह को पूर्व राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने भी सम्बोधित किया। पुस्तक के लेखक गुलाब कोठारी ने कहा कि संस्कृति का ज्ञान युवाओं को कराना आवश्यक है। लोगों का अपनी माटी से जोडना होगा। इन्दिरा गांधी राष्टीय कला केन्द्र के अध्यक्ष रामबहादुर राय और सदस्य सचिव डॉ सचिदानन्द जोशी ने भी समारोह को सम्बोधित किया।

मीनाक्षी लेखी सहित 17 सांसद कोरोना से संक्रमित

आज से संसद के मॉनसून सत्र की शुरुआत हुई. सत्र से पहले सभी सांसदों का कोरोना टेस्ट करवाया गया जिसमें हैरान कर देने वाले नतीजे सामने आए. मॉनसून सत्र से पहले कराए गए कोरोना टेस्ट के रिजल्ट में पता चला कि 17 सांसदों कोरोना से संक्रमित हैं. इनमें मीनाक्षी लेखी, अनंत कुमार हेगड़े और प्रवेश साहिब सिंह शामिल हैं.

इन सांसदों का 13 और 14 सितंबर को संसद भवन में टेस्ट कराया गया था. इन कोरोना संक्रमित सांसदों में सबसे ज्यादा 12 सांसद बीजेपी के हैं. YRS कांग्रेस के दो, शिवसेना, DMK के और RLP के एक-एक सांसद हैं.

कोरोना संकट के बीच शुरू हुआ मॉनसून सत्र 1 अक्टूबर तक चलेगा. इस दौरान सख्ती से कोविड-19 गाइडलाइंस का पालन किया जा रहा है. इसके तहत फेस मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग की अनिवार्यता बनाई गई है. वहीं सदन में हर सीट पर पॉली-कार्बन ग्लास लगाया गया है.

कोरोना वायरस महामारी से जुड़े दिशानिर्देशों का पालन करते हुए आज संसद के मॉनसून सत्र का प्रारंभ हुआ. इस दौरान पहली बार लोकसभा के सदस्यों ने राज्यसभा में बैठकर सदन की कार्यवाही में हिस्सा लिया.

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि सामाजिक दूरी की अनुपालना के मद्देनजर लोकसभा के सदस्यों को उच्च सदन में बैठने की अनुमति देने और राज्यसभा के सदस्यों को निचले सदन में बैठना सुगम बनाने के लिये नियमों एवं प्रक्रियाओं में ढील दी गई है.