Rajasthan Exclusive > राजस्थान > प्रदेश में राष्ट्रीय कृमि मुक्ति कार्यक्रम शुरू

प्रदेश में राष्ट्रीय कृमि मुक्ति कार्यक्रम शुरू

0
87

प्रदेश में कोरोना महामारी के बीच सभी स्वास्थ्य कार्यक्रमों को सुचारू रूप से चलाने की कोशिश की जा रही है। राष्ट्रीय कृमि मुक्ति कार्यक्रम सप्ताह आज से प्रदेश भर में शुरू हो गया है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने बताया कि इस बार 5 से 11 अक्टूबर तक राष्ट्रीय कृमि मुक्ति सप्ताह मनाया जाएगा।

उन्होंने बताया कि मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को कृमि नाशक दवा खिलाने के दौरान कोरोना संक्रमण से बचाव के सभी दिशा-निर्देशोँ की पालना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं। वहीं उन्होंने सभी अभिभावकों से अपील की है कि वे कोरोना सुरक्षा के दिशा निर्देशों का पालन करते हुए अपने बच्चों को निकटतम आंगनबाड़ी, उपस्वास्थ्य केंद्र या शहरी पीएचसी पर कृमि मुक्ति की दवाई खिलाने अवश्य लेकर जाएं।

यह भी पढे: जयपुर में कोरोना संक्रमण का हो रहा भयावह विस्तार

चिकित्सा मंत्री ने बताया कि राष्ट्रीय कृमि मुक्ति कार्यक्रम के सफल क्रियान्वयन के लिये चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, शिक्षा एवं समेकित बाल विकास सेवाएं विभाग के सक्रिय सहयोग की आवश्यकता प्रतिपादित की। सभी स्थानों पर दवा की आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश पहले ही दिए जा चुके हैं।

उन्होंने बताया कि कोविड -19 के चलते स्कूलों और आंगनबाड़ियों में बच्चों के न आने के कारण यह कार्यक्रम आंगनबाड़ी केंद्रों, उपस्वास्थ्य केंद्रों और शहरी स्वास्थ्य केन्द्रों के माध्यम से पूरा किया जाएगा। इस कार्यक्रम के तहत 1 से 19 वर्ष के सभी बच्चों व किशोर – किशोरियों को कृमि नाशक दवा दी जा रही है।

यह भी पढे: राजस्थान में चार दिनों में कोरोना से रिकवरी रेट 92 प्रतिशत से ज्यादा

मिशन के निदेशक, एनएचएम नरेश कुमार ठकराल ने कहा कि बच्चों में कृमि संक्रमण एक प्रमुख जनस्वास्थ्य समस्या है। यह बच्चों की शारीरिक वृद्धि, संज्ञानात्मक विकास में बाधक होती है। इनसे एनीमिया और कुपोषण का भी खतरा रहता है। नियमित डीवॉर्मिंग बच्चों और किशोरों में कृमि के संक्रमण को समाप्त कर, उनके शारीरिक विकास में योगदान कर सकता है।