Rajasthan Exclusive > राजस्थान > त्योहारी सीजन में व्यापारियों के लिए बड़ी राहत

त्योहारी सीजन में व्यापारियों के लिए बड़ी राहत

0
161

कोरोना के खौफ के बीच त्योहारी सीजन में व्यापारियों के लिए राहत भरी खबर है. प्रदेश के चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कहा कि फिलहाल राजस्थान में लॉकडाउन जैसी स्थिति नहीं यह संकेत दिए है. कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच फिर से लॉकडाउन जैसी बातों को चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने सिरे से खारिज किया.

राजस्थान में कोरोना की पिछले सात माह में कई तस्वीरें देखने को मिली हैं. राजस्थान में औसतन रोजाना 2000 के आसपास केस भले ही दर्ज हो रहे है, लेकिन यदि ग्रोथ रेट की बात की जाए तो अक्टूबर के दूसरे सप्ताह में पहले के मुकाबले केस बढ़ने की रफ्तार कम हुई है. चिकित्सा मंत्री का मानना है कि यह ग्रोथ रेट सरकार के नो मास्क नो एंट्री कैम्पेन के प्रभावित संचालन के चलते कम हो रही है. डॉक्टर शर्मा ने यह जानकारी चिकित्सकों के सलाह और प्रदेश में कोरोना की स्थिति की समीक्षा करने के बाद दी. चिकित्सकों ने भी लॉकडाउन को लेकर विशेष राय दी है.सिर्फ लॉकडाउन नहीं कोरोना रोकथाम का विकल्प मास्क और सोशल डिस्टेसिंग से ही कोरोना की चेन को तोड़ा जा सकता है.

यह भी पढे: निगम चुनाव में टिकट की सिफारिश करने वाले नेताओं को जीत की गारंटी लेनी होगी

चिकित्सा मंत्री ने प्रदेशभर के आंकड़े साझा करते हुए दावा किया कि स्थितियां अब कुछ सुधरती जा रही है, लेकिन साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि जब तक जनता का सहयोग नहीं मिलेगा, हम कोरोना पर पूरी तरह से जीत हासिल नहीं कर पायेंगे. चिकित्सा मंत्री ने कहा, अक्टूबर के पहले सप्ताह कुछ बढ़े थे लेकिन दूसरे सप्ताह में केस बढ़ते की दर में देखी जा रही कमी सबके लिए सुखद खबर है, लेकिन साथ ही सावधानी भी जरूरी है. उन्होंने बताया कि राजस्थान में पॉजिटिव प्रतिशत 4.73 फीसदी है . जबकि रिकवरी रेट 85.50 है, जो कि देश के टॉप राज्यों के बराबर है. मृत्यु दर 1.03 फीसदी है जो कि देशभर के औसत से काफी कम है

चिकित्सा मंत्री ने कहा कि सरकार कोरोना के मामलों को लेकर शुरूआत से ही गंभीरता दिखा रही है.फिर चाहे वो ग्रास रूट पर इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करना हो या मरीजों के लिए अन्य दूसरी सुविधाएं विकसित करनी हो. कोरोना से निपटने के लिए सरकार ने हर मोर्चें पर जो प्रयास किया है वह पूरे देश के लिए मिसाल है.