Rajasthan Exclusive > राजस्थान > मानसून पड़ा कमजोर होने से प्रदेश में उछला तापमान

मानसून पड़ा कमजोर होने से प्रदेश में उछला तापमान

0
166
  • बीकानेर में पारा पहुंचा 40 डिग्री

  • प्रदेश के कुछ हिस्सों में अभी भी बारिश की संभावना

  • पूर्वी राजस्थान में बारिश के आसार जताए जा रहे हैं

जयपुर: प्रदेश में मानसून बेशक कमजोर पड़ चुका है, लेकिन इसके बावजूद प्रदेश के कुछ हिस्सों में अभी भी बारिश की संभावना बनी हुई है। खासतौर पर पूर्वी राजस्थान में बारिश (Rajasthan monsoon latest news)के आसार जताए जा रहे हैं। मौसम विभाग के अनुसार आज भी प्रदेश के कुछ इलाकों में हल्की बारिश हो सकती है। मॉनसून प्रदेश में अब विदाई की ओर बढऩे लग गया है।

अगले सप्ताह से प्रदेश में मानसून की विदाई की शुरुआत संभव है। ऐसे में अब प्रदेश में तापमान में बढ़ोतरी का दौर फिर से शुरू हो गया है। बारिश की गतिविधियां कम होने के साथ ही अब सूर्यदेव ने अपने तीखे तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं।

यह भी पढे: मौसम विभाग ने जताई चेतावनी, इन जिलो में हो सकती है भारी बारिश

प्रदेश के अधिकांश हिस्सों के तापमान में बढ़ोतरी का दौर शुरू हो गया है। बीकानेर में पारा 40 डिग्री सेल्सियस के पास पहुंच चुका है। मौसम विभाग के अनुसार फलौदी, चूरू, जैसलमेर, बाड़मेर, कोटा और जयपुर में पारा 35 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच गया। जयपुर में भी तेज धूप और उमस लोगों को परेशान कर रही है। दिन और रात का तापमान सामान्य से 2 डिग्री सेल्सियस ज्यादा बना हुआ है।

अगले सप्ताह फिर लौट सकता है मानसून

अगले सप्ताह प्रदेश में फिर लौट सकता है मानसून.

देशभर में मानसून इस साल काफी मेहरबान रहा है.

चालू सीजन में अब तक औसत से सात फीसदी ज्यादा बारिश हुई है।

अब अगले सप्ताह मानसून की वापसी हो सकती है।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के महानिदेशक डॉ. मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि,

 “आईएमडी ने अपने साप्ताहिक मौसम अपटेड में जिक्र किया है.”

18 सितंबर को समाप्त होने वाले सप्ताह में राजस्थान के पश्चिमी हिस्से से मानसून की वापसी हो सकती है।

पृथ्वी विज्ञान विभाग के सचिव डॉ. एम. राजीवन ने कहा कि,

” दक्षिण-पश्चिम मानसून का प्रसार इस साल बेहतर रहने और खूब बारिश से पैदावार अच्छी होगी।”

सोमवार के दिन प्रदेश कें कई जिलों में भारी बारिश का दौर देखने को मिला था.

भारी बारिश के कारण कई जग्हो पर पानी भर जाने के हादसे भी सामने आ रहै थे.

यह भी पढे: प्रदेश में भीषण सूखे का डर खत्म, सावन में नहीं भादों में भी अच्छी बारिश

आसमान में बादल छाए हुए थे और दोपहर आते आते जयपुर सहित प्रदेश के कई जिलों में अच्छी बारिश हो रही है.

जयपुर के आसपास के कई क्षेत्रों में भी बूंदाबांदी हो रही है.

प्रदेश के जवाहर लाल नेहरू मार्ग, राजस्थान विश्वविद्यालय,

जयपुर विकास प्राधिकरण, राजापार्क सहित जयपुर के अनेक अप नगरों में तेज बारिश होने से पानी भर गया है।

मौसम विभाग ने जयपुर दोसा, करौली, भरतपुर, सवाई माधोपुर ,

धौलपुर, चूरू, सीकर, झुंझुनू, अलवर, टोंक में भी आगामी चौबीस घंटों में बारिश की चेतावनी जारी की है.

शहर के अनेक स्थानों स्थानों पर हो रही है तेज बारिश हो रही है.

इस कारण यात्रियों को आवाजाही में काफी परेशानी सामना करना पड़ा।

जानकारी के अनुसार सोमवार दोपहर अचानक हुई बारिश के कारण सिंधी कैंप बस स्टैंड, पर पानी भर गया।

सिंधी कैंप बस स्टैंड पर चल रहे निर्माण कार्य के दौरान खुदाई के गड्ढे में पानी भर गया इससे लोगों में काफी परेशानी हो रही है.

यह है हालात

राजस्थान में औसतन 521 मिलीमीटर बारिश होती है और अगस्त माह तक 446 मिलीमीटर बारिश हो गई है

यानी कुल औसत के मुकाबले 85 प्रतिशत से ज्यादा बारिश हो चुकी है।

अगस्त माह तक 439 मिलीमीटर बारिश होती है।

यह भी पढे: मौसम विभाग ने जताई चेतावनी, इन जिलो में हो सकती है भारी बारिश

ऐसे में इस मानसून में पहली बार बारिश का आंकड़ा औसत के मुकाबले प्लस में गया है।

राजस्थान के आठ जिलों में सामान्य से अधिक और 17 में सामान्य बारिश हुई है।

बांधों और तालाबों में आया पानी

राजस्थान राज्य के कुल 742 जलाशयों में से 499 में पानी आ गया है।

दरअसल नदियां ज्यादा नही होने के कारण राजस्थान पेयजल के लिए बड़े बांधों और तालाबों पर निर्भर है।

एक पखवाड़े की बारिश में इनकी स्थिति भी सुधरी है और कुल क्षमता का 65 प्रतिशत पानी बांधों में आ गया है।

बीसलपुर, माही, जवाई बांध जैसे 22 बड़े बांधों में तो 80 प्रतिशत तक पानी है।

इससे पेयजल का संकट बहुत हद तक दूर हो गया है।