Rajasthan Exclusive > राजस्थान > नगर निगम बोर्ड बनाने के लिए भाजपा ने अपनी पूरी ताकत लगा दी

नगर निगम बोर्ड बनाने के लिए भाजपा ने अपनी पूरी ताकत लगा दी

0
191

तीन शहरों की छह नगर निगमों के लिए हो रहे नगर निगम चुनाव न सिर्फ राजनीतिक दलों की प्रतिष्ठा का सवाल बने हुए हैं बल्कि इनसे कई दिग्गज नेताओं की साख भी जुडी हुई है। भाजपा में तो चुनावी प्रतिष्ठा के पैमाने का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि केंद्रीय मंत्रियों से लेकर राज्यसभा और लोकसभा के सांसद भी वार्ड प्रत्याशियों के लिए वोट की अपील करते दिखाई दे रहे हैं।

जयपुर-जोधपुर और कोटा में नगर निगम बोर्ड बनाने के मकसद से भाजपा ने अपनी पूरी ताकत झोंकी हुई है। पार्टी ने केंद्रीय मंत्रियों और सांसदों तक को निगम चुनाव जिताने की ज़िम्मेदारी दी हुई है। ऐसे में अब चुनाव में जीत पाना हर दिग्गज नेता की प्रतिष्ठा से जुड़ गया है। संभवतः ये पहली बार है जब किसी पार्टी ने इतने सारे सियासी दिग्गजों को कैम्पेनिंग में उतारा है जो वार्ड की गलियों और कॉलोनियों में घूमकर वोट अपील कर रहे हैं ।

यह भी पढे: चित्तौडग़ढ़ से भाजपा सांसद सीपी जोशी कोरोना संक्रमित

केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत जोधपुर सांसद भी हैं लिहाजा जोधपुर नगर निगम ‘फतह’ करने की ज़िम्मेदारी उन्हीं के कन्धों पर है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृह क्षेत्र से लोकसभा चुनाव जीतने में कामयाब रहे शेखावत के लिए पार्टी को निगम चुनाव जिताना एक नई चुनौती बनी हुई है। केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी भी जोधपुर में मोर्चा संभाले हुए हैं। वे शेखावत के साथ ही पार्टी के वार्ड प्रत्याशियों के लिए जनसमर्थन जुटा रहे हैं।

केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल जयपुर नगर निगम चुनाव के लिए समन्वयक हैं। इसलिए जयपुर में बीजेपी बोर्ड की शहरी सरकार बनाने की महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी उन्हीं के पास है। तीनों शहरों के निगम चुनाव के लिए भाजपा का मेनिफेस्टो भी उन्होंने ही जारी किया है।

इन मंत्रियों के अलावा अन्य सांसदों के लिए भी नगर निगम चुनाव अग्नि परिक्षा’ बने हुए हैं। इनमें राज्य सभा सांसद राजेन्द्र गहलोत, राजसमन्द सांसद दिया कुमारी, जयपुर शहर सांसद रामचरण बोहरा, चित्तोड़गढ़ सांसद सीपी जोशी और सीकर सांसद सुमेधानंद सरस्वती के नाम भी शामिल हैं।