Rajasthan Exclusive > राजस्थान > कोरोनाकाल में पुलिस के प्रति बढ़ा आमजन का विश्वास

कोरोनाकाल में पुलिस के प्रति बढ़ा आमजन का विश्वास

0
153
  • पुलिसकर्मियों की भूमिका पर हुए सर्वे में बात आई सामने

जयपुर: कोरोना के दौरान प्रदेश में पुलिस ने अभिभावक की भूमिका निभाई। आमजन में पुलिस का भय कम होकर पुलिस के प्रति विश्वास बढ़ा है। पुलिस ने सच्चे प्रहरी के रूप में अपने व अपने परिवार की परवाह किए बिना दिन-रात कार्य किया। महिला पुलिस कर्मियों ने भी अपना जीवन दाव पर लगाकर लोगों का जीवन बचाने के लिए लोकहित में अनेक संवेदनशील उदाहरण पेश किए। इस तरह की अनेक सकारात्मक टिप्पणियां कोरोना काल के दौरान पुलिस की भूमिका के बारे में आयोजित एक सर्वेक्षण में प्रकट की गई। यह ऑनलाइन सर्वेक्षण जेकेलोन अस्पताल के एसोसिएट प्रोफेसर शिशु रोग डॉ. योगेश यादव एवं संयुक्त निदेशक प्रचार पुलिस मुख्यालय गोविन्द पारीक ने संयुक्त रूप से किया।

डॉ. यादव ने बताया कि,Rajasthan police latest News

“2 सप्ताह चले इस सर्वें में कुल 25 जिलों के 153 लोगों ने भाग लिया। सर्वे में भाग लेने वाले सदस्यों की आयु 18 से 65 वर्ष के बीच थी। सर्वे में भाग लेने वाले उत्तरदाताओं ने निर्धारित प्रश्नावली के अनुसार गूगल फार्म भरकर सवालों के जवाब दिए। उत्तरदाताओं की गोपनीयता का भी पूरा ध्यान रखा है। सर्वे में होने शामिल होने वाले लोगों में 55 प्रतिशत लोग स्नातकोत्तर, 35 प्रतिशत स्नातक एवं 8 प्रतिशत स्कूली शिक्षा ही ले पाए थे। इसके अलावा 2 प्रतिशत लोग अशिक्षित थे। सर्वे में 13 प्रतिशत महानगरी पृष्ठभूमि से थे एवं 24 प्रतिशत शहरी, 10 प्रतिशत कस्बाई व 53 प्रतिशत लोग ग्रामीण पृष्टभूमि के थे।”

लॉकडाउन में 65 फीसदी लोग नहीं डरे पुलिस से

सर्वे के दौरान उत्तरदाताओं ने कोरोना वारियर के रूप में पुलिस की कार्यप्रणाली को सराहा है। सर्वे में पूछे गए सवाल में 65 प्रतिशत लोगों को लॉकडाउन एवं अनलॉक के दौरान पुलिसकर्मियों से डर नहीं लगा, जबकि 35 लोगों को लोगों के दौरान पुलिसकर्मियों से डर महसूस हुआ। एक अन्य सवाल के जवाब में लगभग 92 प्रतिशत लोगों ने माना कि लॉकडाउन के दौरान अपराध कम हुए।

यह भी पढे: नेताओं ने अफसरशाही पर उठाए सवाल, पुराने कांग्रेसियों का दर्द भी छलका

77 फीसदी ने माना, पुलिस की साख बढ़ी Rajasthan police latest News

सर्वे में पूछे गए सवाल के जवाब के अनुसार 77 प्रतिशत लोगों ने माना कि कोरोना के दौरान पुलिस की साख बढ़ी है, जबकि 15 प्रतिशत लोगों ने बताया कि पुलिस के साख उनके मन में पहले जैसी है। शेष 8 प्रतिशत लोगों ने इस बारे में कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। डॉ. यादव ने बताया कि संयुक्त निदेशक पारीक के मार्ग दर्शन में हुए इस सर्वेक्षण की टीम में सीनियर डेमोन्सट्रेटर फिजीयोलॉजी डॉ. कविता, डॉ. विकास सैनी एवं डॉ. दिलीप कागा शामिल थे।

पायलट कैम्प पर टिकी है सबकी निगाहें Rajasthan police latest News

फीडबैक कार्यक्रम का आज गुरुवार को दूसरा दिन है। माकन आज जयपुर संभाग के जिलों के कांग्रेस नेताओं से प्रदेश कांग्रेस(Rajasthan politics latest news) कार्यालय में जिलेवार फीडबैक ले रहे हैं। सुबह 10.15 बजे से इसकी शुरूआत से जयपुर शहर के नेताओं की बैठक से हुई। इसके बाद 11 बजे जयपुर देहात की बैठक हुई। 12 बजे अलवर और 12.45 बजे से झुंझुनूं के नेताओं से चर्चा होगी। दोपहर बाद 3 बजे सीकर और 4 बजे दौसा जिले के कांग्रेस नेताओं से संवाद होगा।

जयपुर शहर से करीब 80 नेता आए Rajasthan police latest News

फीडबैक के लिए सबसे ज्यादा नेता जयपुर शहर और जयुपर देहात से ही आए क्योंकि जयपुर जिले में ही सबसे ज्यादा पार्टी पदाधिकारी रहते हैं। जयपुर शहर से करीब 80 और जयपुर देहात से 70 नेता फीडबैक कार्यक्रम में बुलाए गए। बाकी हर जिले से 50-50 के करीब नेताओं को बुलाया गया है। इनमें हर जिले से विधायक, विधायक उम्मीदवार, सांसद उम्मीदवार, एआईसीसी पदाधिकारी और सदस्य, पूर्व पीसीसी पदाधिकारी, निवर्तमान जिलाध्यक्ष, पूर्व विधायक, पूर्व सांसद, पीसीसी सदस्य और सहवृत सदस्य समेत प्रकोष्ठों के निवर्तमान प्रदेशाध्यक्षों को बुलाया गया है।

यह भी पढे: जयपुर संभाग का फीडबैक शुरू, पायलट कैम्प पर टिकी है सबकी निगाहें

पायलट कैम्प पर निगाहें

जयपुर संभाग के फीडबैक कार्यक्रम में बड़ी संख्या में सचिन पायलट कैम्प के नेता भी आए। पायलट के पुराने निर्वाचन क्षेत्र दौसा से भी बड़ी संख्या में नेता फीडबैक देने आएंगे। पायलट कैम्प के नेताओं के रुख पर सबकी निगाहें टिकी हुई है। अजमेर संभग के फीडबैक कार्यक्रम के दौरान जिस तरह पायलट कैम्प के समर्थकों ने नारेबाजी की उसके बाद राजनीतिक हलकों में कई तरह की चर्चाएं हैं। फीडबैक कार्यक्रम में सत्ता खेमे और पायलट कैम्प के नेताओं के रुख पर कांग्रेस की आगे की सियासत निर्भर करेगी।