Rajasthan Exclusive > राजस्थान > वासुदेव देवनानी ने राज्य सरकार से निजी स्कूलों की फीस को लेकर स्पष्ट नीति लागू करने की मांग

वासुदेव देवनानी ने राज्य सरकार से निजी स्कूलों की फीस को लेकर स्पष्ट नीति लागू करने की मांग

0
110

पूर्व शिक्षा राज्य मंत्री और विधायक वासुदेव देवनानी ने राज्य सरकार से निजी स्कूलों की फीस को लेकर स्पष्ट नीति लागू करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि सरकार की झूठी वाहवाही लूटने के लिए की गई 3 माह की फीस स्थगन की घोषणा से अभिभावकों को कोई राहत नहीं मिल सकी। निजी विद्यालयों द्वारा स्थगित की गई अवधि सहित अब तक की पूरी फीस जमा करने का अभिभावकों पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है।

देवनानी ने कहा कि कोर्ट के आदेशानुसार मात्र ट्यूशन फीस का 70 प्रतिशत शुल्क स्कूल फीस के रूप में लिया जा सकता है जबकि निजी स्कूल कहीं पर पूरी फीस तो कहीं पर ट्यूशन फीस के साथ अन्य शुल्कों को जोड़कर उसका 70 प्रतिशत वसूल रहे है। राज्य सरकार निजी विद्यालयों की फीस के संबंध में हाईकोर्ट के इस आदेश की पालना भी नहीं करवा पा रही है।

यह भी पढे: अभिभवकों ने बनाई ह्यूमन चैन, मांगी स्कूल फीस के लिए भीख

देवनानी ने कहा कि शिक्षा एक महत्वपूर्ण मसला है और राज्य सरकार को इसे गंभीरता से लेते हुए इस मामले का उचित समाधान निकालना चाहिए। कोरोना महामारी के कारण अभिभावकों के रोजगार प्रभावित हो रहे है तथा बच्चें भी विद्यालयों में अध्ययन के लिए नहीं जा पा रहे है।

इसके बावजूद निजी विद्यालयों द्वारा फीस वसूली का दबाव बनाया जाना कतई न्यायसंगत नहीं है। उन्होंने कहा कि हाईकोर्ट के आदेशों की अवहेलना व सरकारी निर्देशों की पालना नहीं करने वाले किसी भी विद्यालय के विरूद्ध सरकार द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई है, जिससे कई निजी विद्यालय बिना किसी डर के अभिभावकों के शोषण पर उतारू है। कई विद्यालय अभिभावकों पर दबाव बना रहे है कि पूरी फीस जमा नहीं कराने पर बच्चों के बोर्ड के फार्म नहीं भरवाए जाएंगे।

अभिभवकों ने बनाई ह्यूमन चैन, मांगी स्कूल फीस के लिए भीख

कोरोना संकट काल से एक तरफ पूरा देश, सभी वर्ग पीड़ित, चिंतित और प्रभावित हो रहे है वही दूसरी तरह प्रदेश एक वर्ग अभिभावक है जो लगातार न्याय की भीख मांग रहा है, राहत की गुहार लगा रहा है, इस कोरोना महामारी ने उन अभिभावकों को अत्यधिक प्रताड़ित और प्रभावित कर दिया है जिसके चलते आज उनको भीख तक मांगने की नोबत आ चुकी है।

यह भी पढे: बिना मास्क घूमने पर होगा 200 रुपए का जुर्माना

बुधवार को जयपुर की सड़कों पर अभिभावकों की यही स्थिति देखने को मिली जब संयुक्त अभिभावक समिति और अभिभवकों ने राजापार्क के बाजार में ना केवल ह्यूमन चेन बनाई बल्कि वहां के दुकानदारों से भीख भी मांगी। अभिभावकों ने सरकार की गाइडलाइन के अनुसार सोश्यल डिस्टेंसिंग की पालन करते हुए 3-3 सदस्यों और 8-8 फ़ीट की दूरी पर खड़े होकर, हाथों में बैनर, पोस्टर, तख्तियां लेकर ह्यूमन चैन बनाई और दुकानदर दुकान जाकर व्यापारियों से स्कूल फीस जमा करवाने के नाम पर भीख देने की गुहार लगाई और यही नही अभिभावकों व्यापारियों के प्रतिष्ठानों पर मत्था भी टेका।