Rajasthan Exclusive > राजस्थान > चुनाव प्रचार के दौरान अनलॉक-4 के निर्देशों की सख्ती से होगी पालना

चुनाव प्रचार के दौरान अनलॉक-4 के निर्देशों की सख्ती से होगी पालना

0
170

जयपुर: राज्य निर्वाचन आयोग के उप सचिव अशोक कुमार जैन ने पंचायती राज संस्थाओं के प्रथम चरण के दौरान किए जाने वाले चुनाव प्रचार में अनलॉक-4 के सभी दिशा-निर्देशों की कड़ाई से पालना करने के निर्देश दिए हैं। (Rajasthan Unlock-4 News)

जैन ने बताया कि अनलॉक-4 के क्रियान्वयन के संबंध में गृह विभाग राजस्थान सरकार के संशोधित आदेश मे अंकित निर्देशों का पंचायती राज संस्थाओं के सरपंच एवं पंच पद के चुनाव प्रचार के दौरान प्रत्याशियों/अभ्यर्थियों से कड़ाई से पालना करवाई जाए। (Rajasthan Unlock-4 News)

यह भी पढे: मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा फ़ैसला: राजस्थान के 11 शहरों में धारा 144 लागू

उन्होंने कहा कि यदि कोई इन निर्देशों का उल्लघंन करता है तो उसके विरूद्ध तुरंत कानूनी कार्रवाई की जाए। यहां यह भी स्पष्ट किया जाता है कि यदि इस संबंध में निर्देशो के उल्लंघन की कोई शिकायत आयोग को प्राप्त होती है और यह पाया जाता है कि स्थानीय अधिकारियों (पुलिस/प्रशासन) द्वारा ऐसे मामलों में उदासीनता बरती जा रही है तो ऐसे अधिकारियों के खिलाफ आयोग कार्रवाई करेगा। (Rajasthan Unlock-4 News)

राजस्थान के 11 शहरों में धारा 144 लागू (Rajasthan Unlock-4 News)

प्रदेश में कोरोना के बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कल दर रात एक बड़ा फ़ैसला लेते हुए 11 शहरों में धारा 144 लगा दी है। अब इन शहरों में सार्वजानिक स्थानों पर 5 से अधिक लोग इकट्ठे नहीं हो सकेंगे। इसके अलावा 31 अक्टूबर तक किसी भी तरह के धार्मिक और सामाजिक कार्यक्रमों पर भी रोक लगा दी गई है। जिन शहरों में धारा144 लागू की गई है वे हैं जयपुर,जोधपुर, कोटा, उदयपुर, नागौर, सीकर, अजमेर, अलवर, भीलवाड़ा, बीकानेर और पाली।

उधर कॉविड 19 महामारी से प्रभावित किसी भी व्यक्ति या उसके परिजन को कोरोना से संबंधित कोई सलाह या सूचना देनी हो तो वह राज्यस्तरीय हेल्पलाइन नंबर 181 पर कॉल कर सकते हैं। यह हेल्पलाइन 21 सितम्बर से शुरू होगी। कोरोना के मरीजों और उनके परिजनों के लिए ये वॉर रूम सप्ताह के सातों दिन और 24 घंटे काम करेंगे।

कोरोना की बढ़ती संख्या पर नियंत्रण के लिए सरकार पूरी तरह सतर्क (Rajasthan Unlock-4 News)

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि कोरोना को लेकर राज्य सरकार पूरी मुस्तैद और सतर्क है, लेकिन इस महामारी से लडऩे के लिए आमजन की सावधानी भी बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि कोरोना से डरकर और बचाव के तरीके अपनाकर ही कोरोना को हराया जा सकता है।

यह भी पढे: प्रदेश में कोरोना के मरीजों के इलाज में कोई कमी नहीं छोड़ी जाएगी: गहलोत

डॉ. शर्मा ने कहा कि 2 मार्च को प्रदेश में पहला पॉजिटिव केस सामने आया था। आज प्रदेश में करीब 1 लाख 10 हजार लोग केस आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि देश में प्रतिदिन एक लाख से ज्यादा मरीज कोरोना की गिरफ्त में आ रहे हैं। यदि संक्रमितों की संख्या इसी तरह बढ़ती रही तो भारत संक्रमितों के आकड़ों में पहले पायदान पर आ जाएगा। (Rajasthan Unlock-4 News)

उन्होंने कहा कि देश में बढ़ती संख्या का असर राजस्थान पर भी पड़ रहा है। चिकित्सा मंत्री ने कहा कि कोरेाना पॉजिटिव की संख्या में बढ़ोतरी हमारी लापरवाही का परिणाम भी हो सकता है। सरकार लगातार आमजन को बाहर निकलते समय मास्क लगाने, समूह में ना जाने, बार-बार साबुन या सेनेटाइजर से हाथ साफ करने, कम से कम दो गज की दूरी रखने की अपील कर रही है। उन्होंने कहा कि जहां लोगों ने लापरवाही बरती है वहीं पॉजिटिव केसेज में बढ़ोतरी हुई है।

बिना लक्षण के मरीज हैं सबसे बड़ी चुनौती (Rajasthan Unlock-4 News)

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि जिन मरीजों में लक्षण नजर आते हैं, उन्हें चिन्हित करने में तो विभाग को कोई परेशानी नहीं है, लेकिन बिना लक्षण के मरीज आज सबसे बड़ी चुनौती बने हुए हैं। उन्हें पहचानने के लिए केवल जांच ही एकमात्र विकल्प है। चिकित्सा मंत्री ने कहा कि सरकार ने कोरोना के दौर में अन्य राज्यों की तुलना में बेहतरीन काम किया है। इस दौरान न केवल सरकार ने चिकित्सकीय आधारभूत ढांचे को मजबूत किया है, बल्कि हमारी चिकित्सकीय व्यवस्थाएं भी मजबूत हुई हैं।