Rajasthan Exclusive > राजस्थान > राजेंद्र राठौड़ ने कहा ‘रंजिशवश तोड़-मरोड़कर पेश किया बयान, दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय

राजेंद्र राठौड़ ने कहा ‘रंजिशवश तोड़-मरोड़कर पेश किया बयान, दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय

0
133

राजस्थान विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने वक्तव्य जारी कर चूरू जिले में डॉक्टर की लापरवाही से गर्भवती महिला व गर्भ में पल रहे शिशु की मौत के मामले में दिए गए बयान को कुछ लोगों द्वारा रंजिशवश तोड़-मरोड़कर पेश करने को दुर्भाग्यपूर्ण व घोर निंदनीय बताया है।

राठौड़ ने कहा कि मैंने 8 साल तक भाजपा सरकार में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के मुखिया के रूप में अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन किया है और चिकित्सा मंत्री के रूप में कार्यकाल के दौरान चिकित्सकों के मान-सम्मान और हर जायज मांग के लिए सकारात्मक सोच के साथ कार्य किया है।

राठौड़ ने कहा कि गर्भवती महिला को गलत इंजेक्शन लगाकर मौके से फरार होने वाले डॉक्टर को हत्यारे की संज्ञा नहीं दी जाएगी तो क्या कहा जाएगा। पेशेवर डॉक्टर सेवा ग्रहण के दौरान मरीज की निःस्वार्थ भाव से सेवा करने की शपथ लेते हैं लेकिन रामपुरा में डॉक्टर ने गलत इंजेक्शन लगाकर इलाज में गंभीर लापरवाही बरती है और एक आपराधिक कृत्य को अंजाम देते हुए अपनी शपथ की मर्यादा को तोड़ा है।

यह भी पढे: निकाय चुनाव: 65 से ज्‍यादा उम्र वालों को भाजपा नहीं देगी टिकट, वार्ड बदलने की भी अनुमति नहीं

राठौड़ ने कहा कि मेरा बयान ‘सफेद कपड़े पहने यह लोग हत्या जैसी घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं’ यह संपूर्ण चिकित्सक समुदाय के लिए नहीं है बल्कि यह इलाज में लापरवाही बरतते हुए प्रसूता की जान लेने वाले रामपुरा में कार्यरत उक्त डॉक्टर के लिए कहा गया है। बाकी अन्य डॉक्टरों से मेरे बयान का कोई संबंध नहीं है।

राठौड़ ने कहा कि कुछ ऐसे लोग जो अपने राज में बैठे आकाओं को खुश करने के लिए मेरे बयान को तोड़-मरोड़कर पेश कर रहे हैं और चिकित्सक समाज के अंदर मेरे खिलाफ दुष्प्रचार कर नफरत फैलाने का प्रयास कर रहे हैं यह बेहद निंदनीय व दुर्भाग्यपूर्ण है।

राठौड़ ने कहा कि राज्य सरकार में कार्यरत अधिकारी व कर्मचारी अपनी जिम्मेदारी को निभाने में ऐसी कोई लापरवाही नहीं बरते जिससे आमजन पर संकट आये। अगर रामपुरा जैसी घटना की पुनरावृत्ति होती है तो मैं सदैव पीड़ित पक्ष को न्याय दिलाने की लड़ाई को अपनी लड़ाई मानकर उनके साथ खड़ा मिलूंगा। क्योंकि राजस्थान की जनता मेरा परिवार है जिनके हितों की रक्षा करना मेरा परम कर्त्तव्य है।

यह भी पढे: कोरोना संक्रमण को देखते हुए निर्वाचन अधिकारियों को खास इंतजाम करने के निर्देश

गौरतलब है कि चुरू जिले के गांव रामपुरा के निवासी राजेंद्र मीणा की 9 माह की गर्भवती पत्नी रचना मीणा को प्रसव पीड़ा होने पर परिजन आदर्श राजकीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र रामपुरा लेकर आए थे लेकिन डॉक्टर ने प्रसूता को गलत इंजेक्शन लगा दिया। प्रसूता की हालत बिगड़ने पर डॉक्टर मौके से भाग गया।