Rajasthan Exclusive > राजस्थान > ड्रग्स मामले बॉलीवुड में जारी है बयानों का सिलसिला

ड्रग्स मामले बॉलीवुड में जारी है बयानों का सिलसिला

0
68

जयपुर: राज्यसभा सदस्य एवं अभिनेत्री जया बच्चन ने मंगलवार को राज्यसभा में फिल्म जगत में ड्रग्स (Rhea Chakraborty Drugs Case News) को लेकर जो बयान दिया है उसके बाद से बॉलीवुड में बयानों का की जोरदार ढिशुम-ढिशुम शुरू हो गई है।

जया ने उन लोगों की आलोचना की थी जो ड्रग्स (Rhea Chakraborty Drugs Case News) के मामले में फिल्म जगत की छवि खराब कर रहे हैं जबकि इससे एक दिन पहले ही बीजेपी के लोकसभा सदस्य और भोजपुरी अभिनेता रवि किशन ने सदन में कहा था कि सिने जगत में मादक पदार्थ की लत की समस्या है। इन दोनों के बयानों के बाद लगता है फिल्म जगत भी अब दो खेमों में बंट गया है।

बयान देने वालों का डोपिंग टेस्ट करवाओ

जया बच्चन ने उन लोगों की आलोचना की है जो दावा करते हैं कि फिल्म जगत नशे की लत से जूझ रहा है। जो ऐसे दावे करते हैं, वे पाखंडी हैं और उनके बयान दोहरे मापदंडों वाले होते हैं। उन सभी का डोपिंग परीक्षण किया जाना चाहिए जो कहते हैं कि सभी फिल्म कलाकार और तकनीशियन मादक पदार्र्थों (Rhea Chakraborty Drugs Case News) के प्रभाव में रहते हैं.

शिवसेना मुखपत्र सामना हर वक्त ही चिल्लाना मतलब सच बोलना नहीं

अगर कंगना को ड्रग्स को लेकर लड़ाई करनी है तो अपने राज्य हिमाचल से शुरुआत करे। पूरा देश ड्रग्स (Rhea Chakraborty Drugs Case News) की समस्या से जूझ रहा है। क्या उन्हें पता नहीं है कि हिमाचल ड्रग्स का गढ़ है? यह लड़ाई अपने गृह राज्य से शुरू करनी चाहिए। जिस इंसान को टैक्सपेयर्स के पैसों से वाई सिक्योरिटी दी गई है.

यह भी पढे: राजस्थान में विदाई के मूड में मानसून

वह ड्रग (Rhea Chakraborty Drugs Case News) लिंक की जानकारी पुलिस को क्यों नहीं देती? मुंबई मेरी तो है ही यह सबकी है और मैं इसके खिलाफ अपमानजनक कटाक्ष बर्दाश्त नहीं करूंगी।

अगर कोई इंसान हर वक्त चिल्लाता रहता है तो इसका मतलब यह नहीं कि वह इंसान सच ही बोल रहा है। कुछ लोग हर वक्त रोना रोते रहते हैं, विक्टिम कार्ड खेलते रहते हैं, ये सब नहीं चलता तो महिला कार्ड खेलने लगते हैं।

उर्मिला मातोंडकर ये मेरी अपनी थाली है आपकी नहीं

जयाजी चार-पांच परिवारों के झूठन को पूरी इंडस्ट्री की थाली समझ बैठे आप? कंगना ने खुद की थाली परोसी और अपनी थाली दांव पर लगाते हुए वो ड्रग्स (Rhea Chakraborty Drugs Case News) की थालियों को साफ करवा रही है तो दिक्कत क्यों? कौन सी थाली दी है जयाजी और उनकी इंडस्ट्री ने? एक थाली मिली थी, जिसमें दो मिनट के रोल आइटम नम्बर्र्स़ और एक रोमांटिक सीन मिलता था, वो भी हीरो के साथ सोने के बाद। मैंने इस इंडस्ट्री को फेमिनिजम सीखाया, थाली देश भक्ति नारी प्रधान फिल्मों से सजाई, यह मेरी अपनी थाली है जया जी आपकी नही। -कंगना रनौत

जिस थाली में जहर हो उसमें छेद करना ही पड़ेगा

जिस थाली में जहर हो उसमे छेद करना ही पड़ेगा। भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में ड्रग्स (Rhea Chakraborty Drugs Case News) की लत काफी ज्यादा है। कई लोगों को पकड़ लिया गया है। एनसीबी बहुत अच्छा काम कर रही है। मैं केंद्र सरकार से अपील करता हूं वह इस पर सख्त कार्रवाई करें, दोषियों को जल्द से जल्द पकड़े और उन्हें सजा दे जिससे की पड़ोसी देशों की साजिश का अंत हो सके।

रवि किशन अगर कोई दाग है तो धोया जाता है

सिर्फ बॉलीवुड इंडस्ट्री में ही ड्रग्स (Rhea Chakraborty Drugs Case News) इस्तेमाल की बात क्यों हो रही है? और भी इंडस्ट्रीज हैं और यह दुनियाभर में हर कहीं होता है। बॉलीवुड इंडस्ट्री में ऐसा होता होगा लेकिन इसका मतलब यह तो नहीं की पूरी इंडस्ट्री ही खराब है। जिस तरीके से लोग बॉलीवुड को निशाना बना रहे हैं, वह बहुत ही गलत है। यह सही नहीं है। मैं लोगों को बताना चाहती हूं कि बॉलीवुड एक खूबसूरत जगह, एक रचनात्मक दुनिया, एक कला और संस्कृति उद्योग है।

यह भी पढे: पंचायत चुनाव 2020: निर्वाचन क्षेत्रों में आदर्श आचार संहिता लागू

मुझे बहुत दुख होता है जब ड्रग्स (Rhea Chakraborty Drugs Case News) जैसे आरोप मुझे सुनने को मिलते हैं। लोग इसके बारे में गलत बोल रहे हैं। अगर कोई दाग है तो धोया जाता है और वो चला चला जाता है। बॉलीवुड पर लगा दाग भी चला जाएगा। बॉलीवुड में कई महान कलाकार हुए हैं। बॉलीवुड भारत है। जब वे हमारे उद्योग का इस तरह मजाक उड़ाएंगे तो मैं बर्दाश्त नहीं करूंगी।

हेमा मालिनी कोई ऐसे कैसे बोल सकता है

भोजपुरी पर उंगली उठाने वाले पहले अपने गिरेबां में झांककर देखे जहां खुद नंगा नाच हो रहा है और आरोप भोजपुरी पर लगा रहे हैं। गलत के खिलाफ आवाज उठाना क्या गलत है, वो भी उसने आवाज उठाई जिसने भोजपुरी को खून पसीना एक कर पहचान दिलाई ।

जो भोजपुरी बिना किसी सरकारी मदद के और सहानुभूति के अपने दम पर अपनी पहचान बनाई उस पर कोई ऐसे कैसे बोल सकता है। इंडस्ट्री में तो कई लोग चुनाव लडऩे जाते हैं लेकिन उनकी जमानत तक नहीं बच पाती है लेकिन भोजपुरी इंडस्ट्री ने तो दो-दो सांसद दिए हैं।

भोजपुरी स्टार अक्षरा सिंह जया बच्च्न को बोलने का कोई हक नही

पता नहीं जया बच्चन रविकिशन के बयान को व्यक्तिगत क्यों ले रही हैं। उन्हें तो ड्रग से युवाओं को बचाने की बात करनी चाहिए। मिलकर आवाज उठानी चाहिए। मैं जया की भावनाओं की कद्र करती हूं लेकिन इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। उन्होंने जिस तरह तल्खी दिखाई है वैसा करने का उन्हें कोई हक नहीं है।