Rajasthan Exclusive > राजस्थान > राज्य में अपनाया जाएगा तमिलनाडु राज्य का सड़क सुरक्षा मॉडल

राज्य में अपनाया जाएगा तमिलनाडु राज्य का सड़क सुरक्षा मॉडल

0
179

राज्य सरकार प्रदेश में तमिलनाडु राज्य के सड़क सुरक्षा मॉडल को अपनाने जा रही है। इसके तहत राज्य की 108 एंबुलेंस सेवा, नेशनल हाईवे की एंबुलेंस और निजी एंबुलेंस का एकीकरण किया जाएगा। इससे आमजन जब 108 टोल फ्री नंबर पर कॉल करने पर जीपीएस सिस्टम के जरिए सबसे नजदीक खड़ी एंबुलेंस मरीज की सहायता के लिए उपलब्ध कराई जाएगी। इसके लिए सॉफ्टवेयर विकसित किया जा रहा है। इस सेवा को जल्द ही शुरू किया जाएगा, इससे एंबुलेंस समय पर पहुंचेगी और पीडि़त को तुरंत प्राथमिक चिकित्सा उपलब्ध होगी।

यह जानकारी परिवहन आयुक्त रवि जैन ने सोमवार को एसएमएस अस्पताल के ट्रोमा सेंटर में स्थापित विश्वस्तरीय अत्याधुनिक तकनीक वाली स्किल लैब में बेसिक लाइफ सपोर्ट (बीएलएस) प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुआत के दौरान दी। यह कार्यक्रम परिवहन विभाग के राज्य सड़क सुरक्षा प्रकोष्ठ की ओर से आयोजित किया गया था। पहले सत्र में पुलिसकर्मियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसके बाद चिकित्सकों, प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारी, सड़क सुरक्षा से जुड़े कार्यकर्ताओं, एनसीसी, एनएसएस, स्काउट-गाइड सहित सभी क्षेत्रों के लोगों को सड़क सुरक्षा का प्रशिक्षण मिलेगा।

जैन ने कहा कि इस सेंटर में सड़क दुर्घटना में घायलों के साथ ही हार्ट अटैक, लकवाग्रस्त, करंट लगने से पीडि़त सहित अन्य मरीजों के प्राथमिक उपचार के बारे में प्रशिक्षण दिया जाएगा। गौरतलब है कि इस लैब को लगभग 4 करोड़ की लागत से बनाया गया है। प्रथम चरण में पुलिस विभाग के 40-40 प्रतिभागियों के 12 बैच को प्रशिक्षण मिलेगा। सड़क सुरक्षा प्रकोष्ठ फंड से अभी जयपुर में बेसिक लाइफ सपोर्ट कार्यक्रम की शुरुआत हुई है। आगे शेष 6 संभागों में भी ऐसे सेंटर स्थापित कर कार्यक्रम संचालित करेंगे। इससे प्रदेशभर के आमजन को भी प्रशिक्षण मिल सकेगा।