Rajasthan Exclusive > राजनीती > सचिन पायलट ने बोला मोदी सरकार पर हमला, केंद्र के पास मजदूरों के लिए कोई ठोस नीति नहीं

सचिन पायलट ने बोला मोदी सरकार पर हमला, केंद्र के पास मजदूरों के लिए कोई ठोस नीति नहीं

0
222

राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने केन्द्र सरकार पर लॉकडाउन में प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए आगे नहीं आने का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हों ने मजदूरों के लिए कोई राष्ट्रव्यापी ठोस नीति नहीं बनाई.

जयपुर में प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में हुई एक प्रेस कांफ्रेंस में पायलट ने कहा कि कांग्रेस ने मजदूरों की मदद की पेशकश की और एक हजार बसों का इंतजाम किया. लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार ने बहाना बनाकर उसे अनुमति नहीं दी. अनुमति दी भी गई तो कहा गया कि पहले बसों को लखनऊ भेजा जाए. बहाने बनाए गए, बसों में कमी निकाली गई और कांग्रेस नेताओं पर मुकदमे दर्ज किए गए.

सचिन पायलट ने कहा कि मदद लेने से कोई छोटा नहीं होता, उत्तर प्रदेश सरकार के इस रवैये को दुनिया ने देखा है. उत्तर प्रदेश सरकार का जो रवैया रहा है उसकी भर्त्सना की जाती है. कांग्रेस ने जो पहल की, उसे नकारा गया है.

सचिन पायलट ने कहा कि पहली बार देखने में आ रहा है कि सत्ताधारी लोग विपक्ष पर आरोप लगा रहे हैं और वह भी मदद के मामले में. उप मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस के चलते लागू लॉकडाउन में लाखों श्रमिक लोग अलग अलग राज्यों में भूखे प्यासे पैदल चलने को मजबूर हो गए. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने निर्णय लिया कि श्रमिकों को घर पहुंचाने का खर्चा कांग्रेस उठाएगी, इसके बाद हलचल बढ़ी, इससे पहले कोई व्यवस्था नहीं थी. सचिन पायलट ने कहा कि केंद्र के पास मजदूरों के लिए कोई ठोस नीति नहीं हैं, कांग्रेस की पहल पर केन्द्र ने श्रमिकों के लिए व्यवस्था की. कांग्रेस ने मजदूरों के लिए एक हजार बसों का इंतजाम किया लेकिन उत्तर प्रदेश सरकारने बसों को अनुमति नहीं दी.