Rajasthan Exclusive > राजस्थान > राजस्थान में भादों में बरसा सावन: तेज बारिश से शहर की सड़कें बनी नदियां

राजस्थान में भादों में बरसा सावन: तेज बारिश से शहर की सड़कें बनी नदियां

0
224
  • शहर जाम, रेंगते रहे वाहन, नारायण सिंह सर्किल पर एक किलो मीटर से ज्यादा की लाइन

  • जयपुर, जलजमाव के चलते शहर में वाहनों की लंबी लाइन लग गई
  • कई जगह पर रात नौ बजे तक जाम की स्थिति रही

जयपुर शहर में तेज बारिश से शहर में जाम की स्थिति हो गई। सडको पर पानी के भराव की स्थिति होने से रात को करीब तीन घंटे तक यातायात रेंग रेंग कर चलता रहा। जवाहर लाल नेहरू मार्ग त्रिमूर्ति व नारायण सिंह सर्किल पर पानी का भराव ज्यादा होने से एक बारगी तो यातायात रूक गया। बाद में करीब एक किलो मीटर से ज्यादा की लाइन लग गई।

शहर में रात तक रूक रूक कर हो रही बारिश के कई जगह पर रात 9 बजे तक जाम की स्थिति रही। न्यू सांगानेर रोड पर पानी का भराव होने से यातायात कुछ देर के लिए रूका रहा। न्यूं सांगानेर रोड पर रात करीब साढ़े नौ बजे तक जाम की स्थिति बनी रही।

9.6 मिमी और 2.30 घंटे की बारिश में सड़कें बनी नदियां

आज मंगलवार को तेज बारिश के बाद जेएलएन मार्ग त्रिमूर्ति सर्किल पर 6:00 बजे से लेकर देर रात तक लंबा जाम लगा रहा। इस जाम में मरीजों को लेकर आई कई एंबुलेंस भी कई घंटे तक फंसी रही।

करीब 1 घंटे में भरतपुर में 1.5 इंच और कुम्हेर में 2.5 इंच बरसा

उम्मीद के मुताबिक भादों में सावन जैसी झमाझम बारिश हो रही है। करीब 10 दिन में ही मानसून का दूसरा दौर शुरू हो गया है। लंबे समय बाद जन्माष्टमी पर्व से पहले बारिश शुरु हुई है जो 12 अगस्त यानि जन्माष्टमी तक ही चलने की उम्मीद है। अगले दो दिन में भारी बारिश की संभावना है।

इधर,कुम्हेर में करीब 2.5 इंच और भरतपुर शहर में करीब 1.5 इंच पानी बरसा। शहर के नदिया मोहल्ला इलाके में आकाशीय बिजली गिरने से एक दीवार में करीब 2 फुट गहरा गड्ढा हो गया। इसके साथ ही कई घरों में टीवी, फ्रिज समेत बिजली उपकरण फुंक गए।

यह भी पढे: जयपुर सहित प्रदेश के कई जिलों में बारिश का दौर शुरू

शहर में सोमवार सुबह से ही बादल छाए हुए थे। कई बार फुहारें भी आईं। लेकिन, दोपहर होते-होते घटाटोप बादल छा गए और मेघ गर्जन के साथ बारिश शुरू हो गई। करीब आधे घंटे तक झमाझम बारिश हुई। बाद में करीब 5 मिनट के अंतराल के बाद फिर तेज बारिश आई। इससे बाजारों में सड़कों पर पानी भरने से आवागमन थम गया। जामा मस्जिद, मथुरा गेट, बासन गेट, दही वाली गली आदि इलाकों में साइलैंसर में पानी भरने के कारण दुपहिया और चार पहिया वाहन बंद हो गए। ज्यादातर लोगों को अपने वाहन खींच कर ले जाने पड़े और उन्हें स्टार्ट करने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। इधर, बारिश की वजह से कई इलाकों में बिजली सप्लाई ठप हो गई।

शहर की 20 से ज्यादा कॉलोनियों में भरा पानी

भरतपुर शहर में तेज बरसात ने नगर निगम की सफाई व्यवस्था पर भी सवाल खड़े कर दिए हैं। सोमवार को हुई बरसात से शहर के निचले इलाकों सहित सर्कुलर रोड के बाहर की 20 से ज्यादा कालोनियों में पानी भर गया। यहां नगर निगम द्वारा पंप लगाकर पानी निकालने की कवायद की जा रही है।

यह भी पढे: राजस्थान में मेघ गर्जना के साथ 11 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, जारी किया गया अलर्ट

नगर निगम ने नालों की सफाई पर इस साल करीब 14 लाख रुपए खर्च किए हैं। फिर भी शहर में अच्छी बारिश होते ही ज्यादातर रास्ते बंद हो गए। इससे शहर का यातायात भी प्रभावित हुआ। आयुक्त नीलिमा तक्षक ने बताया कि जलभराव वाले इलाकों में 4 कनिष्ठ अभियंताओं की क्षेत्रवार ड्यूटी लगाई है। कई जगह पंप लगाकर पानी निकालने का काम शुरू कर दिया है।

कई घरों के बिजली उपकरण फुंके

बारिश के दौरान शहर के नदिया मोहल्ला क्षेत्र में बिजली गिरने से एक मकान में मामूली नुकसान हुआ है। आसपास के कुछ घरों के बिजली के उपकरण भी खराब हो गए। स्थानीय लोगों ने बताया कि बनवारी लाल मित्तल के मकान के सहारे बिजली गिरने से दीवार मामूली रूप से क्षतिग्रस्त हुई

अगले 2 दिन में 5 इंच बरसात की है संभावना

अगले दो दिन भारी बरसात की चेतावनी है। बताया जा रहा है कि 64 से 115 एमएम तक बरसात हो सकती है। मौसम विभाग के अनुसार भरतपुर और धौलपुर सहित पूर्वी राजस्थान में मेघ गर्जन के साथ भारी बरसात होगी।