Rajasthan Exclusive > राजस्थान > कांग्रेस और बसपा विलय प्रकरण, हाईकोर्ट के आज के फैसले से गहलोत खेमे में चिंता !

कांग्रेस और बसपा विलय प्रकरण, हाईकोर्ट के आज के फैसले से गहलोत खेमे में चिंता !

0
322

पहली बार इतना निर्णायक फैसला आया है। बसपा विधायकों के विलय से जुड़े मामले में हाईकोर्ट ने एकल पीठ को निर्देश दिया है कि वह जल्द stay application पर सुनवाई कर अपना फैसला सुनाए।

आज हाईकोर्ट में इस मामले की सुनवाई हुई को पहले से तय थी।

दो बजे है कोर्ट ने इस मुद्दे पर अपना फैसला सुनाया जिसके तहत मदन दिलावर और बहुजन समाज पार्टी की अपील को निस्तारित कर दिया है।

.इस निस्तारण साथ ही हाई कोर्ट ने कुछ निर्देश भी दिए हैं।

हाई कोर्ट ने कहा है किजैसलमर के जिला जज कांग्रेस में शामिल बीएसपी के छ विधायकों को नोटिस जारी करेंगे और ज़रूरत पड़े तो एस पी की मदद लें।

हाई कोर्ट ने यह भी निर्देश दिया है किएक पब्लिक नोटिस जैसलमेर और बाड़मेर के स्थानीय अखबार में प्रकाशित किया जाए।

यह भी पढे: राजस्थान में ऑपरेशन स्माइल के माध्यम से परिवारों को जोड़ता निर्भया स्कोड

हाई कोर्ट का यह फैसला कई अंदाज़ में अनूठा है।

कोर्ट ने सिंगल बेंच को यह स्पष्ट निर्देश दिया है कि वह केवल एक ही दिन में 11 अगस्त को सुनवाई कर stay application पर फैसला करे।

बीएसपी विधायकों को 8 अगस्त तक नोटिस जाती करने के निर्देश हैं।

हाई कोर्ट के जज के फैसले से गहलोत खेमा चिंतित है।

अब कांग्रेस को किसी भी सूरत में यह केस जीतना होगा।

यदि किसी परिस्थिति में बसपा विधायकों कि वोटिंग पर stay आ गया तब फिर कांग्रेस के लिए विश्वास मत जीतना भारी चुनौती होगी।

गौरतलब है कि 14 अगस्त को विधान सभा की बैठक होनी है।

यह भी पढे: सुप्रीम कोर्ट में स्पीकर की याचिका पर अब सोमवार को होगी सुनवाई

ऐसे में हर सूरत में हाई कोर्ट 14 अगस्त से पहले बसपा विधायकों का भविष्य तय कर सकता है।

हारने वाला पक्ष अगले ही दिन सुप्रीम कोर्ट पहुंचेगा।

सुप्रीम कोर्ट या तो 14 अगस्त से पहले अपना फैसला सुना देगा या फिर सत्र शुरू होने की तारीख बढ़ा देगा।

अब देखना राजस्थान में सत्ता का उंट किस करवट बैठता है।