Rajasthan Exclusive > राजस्थान > राजस्थान विवि की यू जी और पी जी अंतिम वर्ष की परीक्षाएं कल से

राजस्थान विवि की यू जी और पी जी अंतिम वर्ष की परीक्षाएं कल से

0
64

राजस्थान विश्वविद्यालय की यूजी और पीजी (U G and PG Exam Start Tommorow) अंतिम वर्ष की परीक्षाएं कल से शुरू होने जा रही हैं। कोविड पॉजिटिव परीक्षार्थियों को इस परीक्षा में शामिल होने की अनुमति नहीं दी जाएगी। विवि उनके लिए बाद में विशेष परीक्षा का आयोजन करेगा। इन परीक्षार्थियों (U G and PG Exam Start Tommorow) को स्वस्थ होने के बाद कोविड संक्रमण की नेगेटिव रिपोर्ट और परीक्षा में शामिल नहीं होने के कारण संबंधी प्रमाण पत्र अपने प्रार्थना पत्र के साथ 10 नवंबर तक विवि में देना होगा। परीक्षार्थी विश्वविद्यालय (U G and PG Exam Start Tommorow) के परीक्षा नियंत्रक कार्यालय में डाक के जरिए यह प्रमाण पत्र और प्रार्थना पत्र जमा करवा सकेंगे।

यह भी पढे: 1965 की लड़ाई में वीरगति को प्राप्त हुए शहीद पूनमचंद की मूर्ति सांभरलेक में होगी स्थापित

विश्वविद्यालय प्रशासन प्रदेश के करीब 180 परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित होने वाली परीक्षाओं (U G and PG Exam Start Tommorow) की तैयारी में जुटा हुआ है। परीक्षाओं को लेकर कोरोना गाइडलाइन के पालन के निर्देश जारी कर दिए गए हैं। विवि ने 25 नए परीक्षा केंद्र बनाए हैं। परीक्षाओं में पुराने छपे प्रश्न पत्रों की ही परीक्षा होगी। परीक्षा तीन पारियों में सुबह 8 बजे से 10 बजे तक, 12 बजे से दो बजे तक और शाम चार बजे से छह बजे तक होगी। आरयू से जुड़े करीब दो लाख परीक्षार्थी इन परीक्षाओं में शामिल होंगे।

आरयू से जुड़े कॉलेजों को कोरोना गाइडलाइन का कड़ाई से पालन कराने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं। विवि के विभिन्न विभागों के साथ ही कॉलेजों में भी इन गाइडलाइन्स की पालना की तैयारी की जा रही है। सिटिंग अरेजमेंट में सोशल डिस्टेंस की रिपोर्ट को वेरिफाई भी किया जा रहा है।

यह भी पढे: भाजपा विधायक कालीचरण सराफ ने मुख्यमंत्री गहलोत पर क्षेत्रवाद का आरोप लगाते हुए जोधपुर के साथ जयपुर को भी बचाने की बात कही

परीक्षा नियंत्रक वी के गुप्ता का कहना है कि कोविड 19 की गाइडलाइन की पालना करवाते हुए परीक्षाओं (U G and PG Exam Start Tommorow) का आयोजन करवाया जाएगा। परीक्षा केंद्रों को हर परीक्षा के बाद सेनेटाइज किया जाएगा। हमारा प्रयास है कि परीक्षा के दौरान विद्यार्थियों की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जा सके।